ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
विशेष Next
अनुकरणीय पहल
भारतीय मूल के अप्रवासी डॉ. आलोक एवं डॉ. संगीता अग्रवाल अचानक जब हैदराबाद में अपने स्कूल के समय की शिक्षिका कुमारी सुमना जी से मिले और उनके सामाजिक कार्य और उनके त्याग का पता चला, तो त्यागमयी प्रवृत्ति होने के कारण तुरंत उनके साथ सहयोग करने का निर्...
किंवदन्ती बन गई किताब
कीसी भी हिंदी लेखक की पुस्तक के यदि तीन संस्करण यानि 1500 किताबें प्रका¶िात हो जाए तो उसका मन टेड़ा-टेड़ा चलने लगता है। कभी कोई हिन्दी लेखक कल्पना में भी सोच नही सकता कि उसकी पुस्तक की लाख प्रति भी बिक पायेगी। ऐसे में चमत्कार होता है अनुपम मिश्...
भारत-चीन व्यापार की सुदृढ़ होती डोर
वर्तमान में चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक मित्र है और भारत चीन का दसवां सबसे बड़ा व्यापारिक मित्र हैं। भारत-चीन व्यापारिक सम्बन्धों का इतिहास इन दोनों देशों के बीच के सांस्कृतिक संबंधों जितना ही पुराना है। प्राचीन काल का मशहूर रेशम मार्ग यह व्यापा...
उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय दिवस यादगार होगा - अखिलेश यादव
प्रश्न : आगरा में 4 से 6 जनवरी 2016 को पहला "उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय दिवस' मनाया जा रहा है। इसकी आवश्यकता पर प्रकाश डालेंगे। उत्तर : पिछली सरकार के ठीक उलट वर्तमान सरकार अपने गठन के बाद से ही प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए लगातार काम कर रही ...
स्वीडन में भारतीय समाज
भारतीय और भारतवंश का समाज यूरोप में ब्रााडफोर्ड जैसी जगहों को छोड़कर बिलकुल अल्पसंख्यक है लेकिन भारतीय संस्कृति की पहचान बढ़ती जा रही है और इसके साथ भारत एक प्रमुख आर्थिक खिलाड़ी बन गया है। यूरोप में भारतीय माइग्रेशन द्वितीय महायुद्ध से पहले इंडियन इ...
यूरोप में प्रवासी भारतीय समाज
आज यूरोप के कई देशों के महानगरों में विभिन्न देशों से लोग आकर बसे हैं। औद्योगिक क्रांति के पश्चात बीसवीं पूर्वार्ध तक लंदन, पेरिस, बर्लिन जैसे महानगर दूर-दूर के लोगों को अपनी और खींचने लगे थे, पर जैसा हाल 1940 के दशक के दौरान द्वितीय वि?ायुद्ध की ...
जापान में प्रवासी भारतीय
दिसंबर 2014 के आंकड़े के अनुसार जापान में 24 हजार 524 प्रवासी भारतीय रहते हैं। 2005 में जापान में प्रवासी विदेशियों की संख्या जापान की जनसंख्या का 1.6 प्र.श. था। उसमें भारतीयों की संख्या 16 हजार 988 थी। यह जापान में प्रवासी विदेशियों का मात्र 0.8 प...
ऑस्ट्रेलियाई भारतीयवंशियों के सरोकार
इस साल मैंने कई समारोहों में भाग लिया, जिनमें मैंने अनुभव किया कि ऑस्ट्रेलिया में प्रवासी भारतीय समाज अब प्रगति की राह पर है। हाल ही में, 23 नवंबर को, ऑस्ट्रेलिया के संसद भवन में दीपावली के समरोह बड़े धूमधाम से मनाया गया। सभा को संबोधित करते हुए भा...
प्राचीनतम भाषा और नवीनतम प्रौद्योगिकी
आस्ट्रेलिया में संस्कृत का अध्ययन पुराने साँचे को तोड़ देता है। ऑस्ट्रेलियन नेशनल युनिवर्सिटी के सह-प्राध्यापक मैकॉमास अपने पुरस्कृत संस्कृत प्रोग्राम के बारे में अपने अनुभव को इस तरह कहते हैं, वि?ा की प्राचीनतम भाषाओं में में से एक का वि?ा की नवीन...
जन्मभूमि और कर्मभूमि का झूला
आस्ट्रेलिया में भारतीय मूल समूह बहुत ही मिश्रित है, जो विभिन्न व्यवसायों, विभिन्न संस्कृतियों और विभिन्न राज्यों से डॉक्टरों और इंजीनियरों से लेकर रसोइये जैसे व्यक्तियों के शामिल लोगों से बना है। यह मुख्य रूप से निर्भर करता है कि ऑस्ट्रेलिया की व्...
भारतीय बुज़ुर्ग जाएँ तो जाएँ कहाँ?
आस्ट्रेलिया में प्रवासी भारतीयों का इतिहास दशकों पुराना है। भारतीय मूल के जो बुज़ुर्ग चार-पाँच दशक पहले आए वे सुस्थापित होकर सम्पन्न हो चुके हैं। हालांकि स्थानीय जीवन-शैली अपनाते हुए वे अपने बहू-बेटियों और नाते-पोतियों से अलग होकर एकाकी जीवन बिताते...
रूस में प्रवासी भारतीय समाज
भारत वि?ा का दूसरा सबसे बड़ा डायस्पोरा है। पचास देशों से अधिक में रह रहे प्रवासी भारतीयों की जनसंख्या करीब दो करोड़ है। रूस के सांख्यिकी विभाग गरोसस्तात'त के अनुसार रूस में बीस हज़ार से अधिक भारतीय रहते हैं। जो रूस में अपने वातावरण और संस्कृति से कटे...
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 15.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^