ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
विमर्श Next
किसका सत्य ही जयते?
आज बात एक किस्से, एक लोककथा से शुरू करना चाहता हूँ : एक राजा था। उसके सिर पर सींग थे जिन्हें वह अपने बालों, ताज और मुकुट से पीछे छुपाए रहता था। लेकिन जिन पंथों में शरीर का एक भी बाल काटने, कटाने, तोड़ने और रंगने को धर्म-विरुद्ध माना जाता है उनके अन...
भाषाओं का परिवारवाद और हिंदी
हिंदी, भारत की राजभाषा है। इसे बोलने वालों की संख्या लगभग 50 करोड़ है। एक बड़ा तबका इसे राष्ट्रभाषा के रूप में मान्यता देता है। यह भी तथ्य है कि भारत के बाहर अनेक देशों में हिन्दी का उपयोग होता है और नये संचार माध्यमों के आने के बाद यह तेजी से अहिन्...
प्रमोशन और साहित्य का संकट
सेमीनारों में वक्ताओं के भाषण साधारण पाठक की चेतना से भी निचले स्तर के होते हैं और सेमीनार के बाद सभी लोग एक-दूसरे की पीठ ठोंकते हैं, गैर शिक्षक श्रोता फ्रस्टेट होते हैं, वे मन ही मन धिक्कारते हैं और कहते हैं कि वे सुनने क्यों आए...
साहित्य का कुल-गोत्र
आज जब समानता और न्याय आधारित, सबकी स्वतंत्रता, अभिव्यक्ति, गरिमा और सम्मान की रक्षा करने की गारंटी देने वाले संविधान से संचालित देश को चलाने के लिए प्रतिनिधियों का चुनाव होने जा रहा है तो अचानक आस्थाओं, गोत्र, जाति और धर्म के परिचय पत्र माँगे जा र...
परिवारवाद और भाषा
जब भी भाषाओं की बात आती है तो उनके जिक्र के साथ एक पदक्रम जैसा संबंध भी आता है। सेना के अधिकारियों/सिपाहियों की तरह भाषाओं का भी पदक्रम निर्मित किया जाता है। किसी भाषा विशेष के लिए देव भाषा, ईश्वरीय भाषा, खुदा की भाषा, गॉड की भाषा के साथ-साथ देवी ...
देवनागरी या रोमन हिंदी?
एक बार फिर देवनागरी बनाम रोमन चर्चा में है। इस कंप्यूटर-टैबलेट-मोबाइल के युग में अक्सर यह बात जोर-शोर से उठाई जाती है कि अपनी हिंदी की लिपि देवनागरी की जगह रोमन क्यों नहीं अपनाई जाए। प्रथम दृष्टया यह मुझे सांस्कृतिक हमला नज़र आता है, वह इस तरह कि म...
भविष्य की भाषा और भाषा का भविष्य
जो पराधीन है, जो विवश है, जो निष्प्राण है, जो मूक है या जिसे बोलने का अवसर नहीं है, उसका क्या भविष्य और क्या वर्तमान। "लायी हयात आए, कज़ा ले चली चले", वाली स्थिति है। बकरी का क्या भविष्य और मुर्गे क्या मुस्तकबिल? किसान का क्या भविष्य? उसे तो खेती क...
कारखाने में नहीं बनती भाषा
मनुष्य आरंभ से ही अपने वजूद को लेकर सचेत रहा है। उसकी चेतना ज्यों-ज्यों विकसित होती गयी अपने अस्तित्व को लेकर उसका चिंतन भी प्रबल होता गया। शायद "मनुष्य" और "व्यक्ति" शब्द की सार्थकता यानी मनुष्य का होना उसके मनन करने और खुद को अभिव्यक्त करने की क...
हिन्दी प्रेमी हैं, तो आइए बहुभाषी बनें
हिंदी इस देश की सम्मिलित आवाज है, यह केवल एक भाषा का नाम नहीं है यह इस देश की प्राणवायु का नाम है। देश की विविध संस्कृतियों को जोड़ने वाले पुल का नाम है। एक भरी पूरी संस्कृति और एक जीवनशैली का नाम है। हमने, खासतौर से हिंदी के कर्ताधर्ता लोगों ने एक...
हिंदी पर अंग्रेजी की प्रेत छाया
संविधान के भाग 17 के चार अध्यायों एवं भाग 5 व 6 के तहत क्रमश: नौ एवं एक-एक अनुच्छेद में राजभाषा के संबंध में व्यवस्थाएं दी गयी हैं। ये अनुच्छेद संघ की भाषा, प्रादेशिक भाषाओं, उच्चतम न्यायालय, उच्च न्यायालयों आदि की भाषा, हिंदी के संबंध में विशेष न...
बोली-भाषा-2
पढ़ने-लिखने से समझदारी आती है। पहले भी सुनता था और आज भी सुनता हूँ। आज एक नई बात जुड़ी कि पढ़े-लिखे कम समझदार होते हैं। वे सिर्फ़ अपना हित सोचते हैं सह-हित नहीं। समझदारी में सह की चिंता होती है। सह का मतलब ही दो है और सम्-मझ भी दो का ही इशारा करता है।...
गाँधी, गुरुदेव और हिंदी
पिछली शताब्दी में हिंदी प्रचार के लिए समर्पित लोगों की अगर सूची बनाई जाए तो निश्चित रूप से सबसे पहला नाम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का होगा। प्रसिद्ध है कि उनके पास आकर जब कोई व्यक्ति यह कहता था कि मैं देशसेवा करना चाहता हूँ, मुझे काम बताइए; तो उनक...
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 15.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^