ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
विमर्श Next
तकनीकी और भाषा

भाषा की विशद् व्याख्या न कर भारतीय भाषाओं और मुख्यत: हिन्दी के संदर्भ में अपनी बात रखूँगा। भाषा की समझ के लिए लिपि, शब्द और व्याकरण को समझना आवश्यक है। लिपि भेद कई हैं - रैखिक, जटिल, बाएं से दाएं, ...

01-Sep-2018 08:06 PM 216
उत्सव, उत्साह और गौरव के परे हिन्दी का सच

हिन्दी विश्व की सर्वाधिक बोली जाने वाले पहली, दूसरी, तीसरी भाषा है या जैसा भी उत्साही भक्तों को लिखने-बोलने के उस क्षण में उचित लगे। हिन्दी विश्व के कितने देशों में बोली और कितने विश्वविद्यालयों मे ...

01-Sep-2018 08:04 PM 216
हिन्दी और हिन्दुस्तानी का प्रश्न फिर क्यों

विगत दिनों सिनेमा पटकथा लेखक और उर्दू के कवि श्री जावेद अख्तर ने हिंदुस्तानी का सवाल उठा कर गढ़े मुर्दे उखाड़ने का प्रयास किया है। शायद जावेद जी भूल गए हैं या भूलने का बहाना कर रहे हैं या सुर्खियों म ...

01-Sep-2018 08:01 PM 218
राष्ट्रभाषा हिन्दुस्तानी और महात्मा गाँधी

आजादी के बहत्तर साल बीत गए। आज भी हमारे देश के पास न तो कोई राष्ट्रभाषा है और न कोई भाषा नीति। दर्जनों समृद्ध भाषाओं वाले इस देश में प्राथमिक से लेकर उच्च शिक्षा तक और न्याय व्यवस्था से लेकर प्रशास ...

01-Sep-2018 07:56 PM 213
हिन्दी भाषा

भा षा वह है, जो सुनाई भी दे और दिखाई भी दे। वह
सुनाती हुई दिखाये और दिखाती हुई सुनाये।
किसी भी भाषा का यही जीवन है और किसी भी जीवन की यही भाषा है। मनुष्य की कोशिश अपने आधार और लक्ष्य को ...

01-Sep-2018 07:54 PM 212
अनुवाद की चुनौतियां

भाषा हमारे जीवन के सर्वाधिक महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है। यह मनुष्यों के बीच आपसी संवाद का मूलभूत माध्यम है। भाषा का वैज्ञानिक अध्ययन भाषा-विज्ञान कहलाता है। भाषा के उद्देश्य आंतरिक विचारों व भाव ...

01-Jun-2018 03:55 PM 905
अनुवाद की समस्या

अनुवाद एक अत्यंत कठिन दायित्व है। रचनाकार किसी एक भाषा में सर्जना करता है, जबकि अनुवादक को एक ही समय में दो भिन्न भाषा और परिवेश/वातावरण को साधना होता है। परिवेश और वातावरण पर बल देते हुए राधाकृष्ण ...

01-Jun-2018 03:40 PM 742
एक अनुवाद ही तो है जीवन

हालाँकि अधिसंख्य जीव मूल प्रवृत्तियों से संचालित जीवन मात्र ही जीते हैं लेकिन चिंतनशील जीव की यात्रा विचारों से शब्दों में होती हुई कर्म तक जाती है। इस प्रकार शब्द विचारों का अनुवाद हैं तो कर्म शब् ...

01-Jun-2018 01:51 PM 630
बच्चों को दीजिए गरिमामय बचपन

न्यू मार्केट हो या कोई और मार्केट, भोपाल हो या कनॉट प्लेस दिल्ली हर शहर के चौराहे पर अक्सर गाड़ी रुकने पर भिक्षा मांगने वाली कुछ युवा महिलाएं गाड़ी के कांच से झांकने लगती हैं। मन को कचोटने वाली बात य ...

01-May-2018 06:02 PM 764
कन्यादान की परम्परा के आशय

भारतीय परम्परा में कन्यादान के संबंध में विचार- विमर्श करने से पूर्व कुछ प्रश्नों से सहज ही सामना होता है, मसलन - दान क्या है? और क्यों किया जाता है? दान करने के बाद उस वस्तु या प्राणी का दान करने ...

01-Apr-2018 04:01 AM 973
क्यों और कैसी शिक्षा

सृष्टि में जीव और उसके जीवन की एक निष्पक्ष और निरपेक्ष व्यवस्था आदिकाल से है। यह व्यवस्था सृष्टि के संतुलन को बनाए रखती है। उसमें किसी प्रजाति का बढ़ना, नष्ट होना, परिस्थितियों के अनुसार परिवर्तित ह ...

01-Mar-2018 02:05 PM 1024
मातृभाषा की प्रतिष्ठा से होगा समर्थ समाज

भाषा के अभाव में हम कैसे जीवित रहेंगे और वह जीवन कैसा होगा इसकी कल्पना ही संभव नहीं है क्योंकि हमारे जाने-अनजाने उसने हमारी दुनिया ही नहीं बदल डाली है, बल्कि उसके साथ हमारे सम्बंध का अचूक माध्यम भी ...

01-Mar-2018 02:01 PM 999
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 11.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^