ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
हमन है इश्क मस्ताना
01-Jun-2016 12:00 AM 4352     

भारत की सभ्यता में कबीर का योग अनूठा है। उनके युग में न तो उग्रवाद था और न आज जैसा भ्रष्टाचार। मुस्लिम ¶ाासन होने के कारण धर्म-परिवर्तन के लिये जोर-जबरदस्ती जरूर की जाती थी। कबीर के समकालीन नानक थे, जो 29 वर्ष की आयु में संत कबीर से मिले थे। कबीर से पहले कवियों में चन्द बरदाई, नामदेव और अमीर खुसरों ने "हिन्दी' और "हिन्दुई' में रचनायें की थीं।
कबीर के समय में दिल्ली सल्तनत के सैय्यद राजकुल और लोधी मुस्लिम राजवं¶ा थे। अधिकतर कबीर ने अपना यायावरी जीवन अवध, भोजपुर और बिहार में बिताया था। ¶ोर¶ााह सूरी भी उनके समय में वहां नवाब थे। कबीर पर सूफी संतों का भी काफी प्रभाव पड़ा था। बहराइच के गाज़ी मियां और मानकपुर कड़ा के सूफी ¶ोख तक्की थे, जो चि¶ती सम्प्रदाय के थे। उन्होंने फारसी में सूफी संतों की जीवनी पर पुस्तक लिखी। पुस्तक में कबीर को सूफी संत माना है। इस पुस्तक का प्रका¶ान 1853 में अब्दुल हक़ देहलवी ने अखबार-अल-अखयार में कबीर के नाम से किया। कबीर को ¶ोख तक्की का सूफी ¶िाष्य माना है।
कबीर को वैष्णव हिन्दुओं ने "वैष्णव भक्त', मुसलमानों ने "परि कबीर', सिक्खों ने "भगत' और कबीर पंथियों ने "अवतार' माना।
कबीर की प्रसिद्ध 15वीं सदी के अंतिम में होने लगी थी। सिक्खों के गुरू अर्जुन देव ने जब गुरुग्रंथ का संकलन किया उसमें चारों सिक्ख गुरुओं के अतिरिक्त, नानक, नामदेव और कबीर के दोहों को भी रखा। गुरुग्रंथ में कबीर के 228 पद और 243 दोहे हैं। 1598 में सिक्खों के तीसरे गुरू अमरदास ने कबीर की परचाई भी लिखी। उसी वर्ष अबुल फज्ल ने "आइने अकबरी' में भी कबीर का वर्णन किया।
अपने मौखिक प्रवचनों में उन्होंने स्थानीय भाषा जो अवधी, भोजपुरी और गोरखपुरी (पूरबी बोली) थी का ही उपयोग किया। वह साधारण समाज में उन्हीं को बोली से आगाह उन्हें करते रहे। लिखना तो वह जानते ही नहीं थे। "मसि कागद छुओ नहीं, कलम गही नहि हाथ' कहकर उन्होंने संत-परम्परा को दोहराया। अपनी बोली पर उन्होंने गर्व से कहा-
बोली हमारी पूरब की हम लखै नहीं कोई,
हम तो तो सोइ लखै, घुर पूरब का होय।
कबीर ने सूफी आदर्¶ाों को सुना अव¶य होगा। उन्होंने अपने दोहों में सूफी फारसी विचारों को अपनी बोली में अभिव्यक्त भी किया कैसे उनको ये विचार मिले इस पर ¶ाोध की आव¶यकता है। फारसी सूफियों के दोहों की कबीर ने दोहों से तुलना की जा सकती है। ये फारसी कवि कबीर से पहले हुये थे।
फारसी कवि हाफिज :
हर कसे पंज रोजाह नौबत उस्त
कबीर :
कबिरा नौबत अपनी, दस दिन लियो बजाय
(अर्थ : आनंद ले दस दिन के लिये, अर्थात जीवन बहुत छोटा है)
फारसी कवि फिरदौसी :
चिह बंदी तो दिल बर सराय फसोस, किह हजमां हमी आयाद आदाये कोस।
कबीर : कबीर सरीर सराय है क्या सोए सुख चैन, स्वांस नगाड़ा कूच का बाजत है दिन रैन।
(अर्थ : ओ कबीर, यह दुनिया यात्रियों की सराय है, यहां तुम क्यों आराम से सोते हो, सासों का बाजा रात दिन बजता है)
फारसी कवि अबुल फर्ज :
हर कस बक्दरी ख्वेई¶ा गिरिफ्तार महनत अस्त,
कस रा न दीदाह अंड बरात्त-ए-मुसल्लमी।
कबीर :
राजा दुखिया परजा दुखिया जोगी को दुख दूनारी,
कहे कबीर सुनो भई साधो कोई मन्दिर नहि सूना री।
(अर्थ : हर कोई रस दुनिया में दुखी है चाहे वह राजा हो या प्रजा और जोगी-फकीर को दुगना। कोई भी घर कष्ठ से सूना नहीं)
फारसी कवि मौलाना रूम :
च¶म बंद ओ लबब बंद ओ गो¶ा बंद,
गर न बीनी सर-ई-हक बर मन ब खंड।
कबीर :
देख रे देख तुझ माहिं धानी
दम को रोक ददिर पावे दम को रोक और
मूल को बंद कर चांद सूरज घर एक आवे।
(अर्थ : तेरा प्यारा तेरे दिल में है, अपनी आँखें और होठ बंद कर अपनी सांस को संभालकर रख और तू देखेगा कि वह (ई¶वर) चांद-सूरज की भांति तुम में आ जायेगा)
कबीर न तो खु¶ाामद-परस्त थे और न उन्होंने किसी की प्र¶ास्ति की। मानव धर्म के लिये उन्होंने अपनी स्मृतियों को ¶ाब्दों में आंका। यही उनका ¶ाा¶वत सत्य था जो आनंद से मुक्ति ला सकता था। वह आज के समय के पद, पुरस्कार, सम्मान और अभिनंदनों के षडयंत्र से मुक्त थे। धार्मिक और सामाजिक ढोंगी दिखावे का उन्होंने सदैव खंडन किया। ई¶वर की खोज में भजन, कीर्तन, पूजा-पाठ, प्रार्थना और धार्मिक पुस्तकों की सहायता नहीं ली। उनका ध्येय निराकार रूप में सहज साधना था। इसी वि¶वास से ही मानवता की समझ को सहज ¶ाून्य कहा जिसमें आनंद और "निर्वान' मुक्त का साधन बना रहा जिसमें विषय और कर्म संसार की प्रकृति का अविभाज्य है जिसे अनुभव ही किया जा सकता है। वही अनंत परम आनंद है।
कबीर ने अपनी लावनी में भी कहा है :
हमन है इ¶क मस्ताना हमन को हो¶िायारी क्या
रहें आजाद या जग से हमन दुनिया से भारी क्या।
जो बिछड़े हैं पियारे से भटकते दर बदर फिरते
हमारा यार है हममें हमन को इन्तजारी क्या।
प¶िचमी दे¶ाों में कबीर पर कोई सौ से ज्यादा डॉक्टरेट की सनदें ¶ाोधकर्ताओं को मिली हैं। योरुप में कबीर का नाम इटली के ईसाई प्रचारक पादरी मार्को डेल्ला तोम्बा द्वारा पहुंचा जिन्होंने 1775 में बिहार की यात्रा की थी। फ्रांस की प्रो. वाडुविल ने भी कबीर पर काम किया और उनके विद्यार्थियों ने ¶ाोध किया। यह कहना अनुचित न होगा कि कबीर नैसर्गिक मानवता के ¶ाांति-दूत हैं और भविष्य में भी बने रहेंगे

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^