ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
गुम होती पहचान
01-Jun-2016 12:00 AM 5188     

शिष्टाचार, आदर, संस्कार भारतीय संस्कृति की सुंदर वि¶ोषताएँ कही जाती हैैं, लेकिन आधुनिक समय में क्या यह कोरे ¶ाब्द भर नहीं रह गये हैं? और धीरे-धीर अपनी चमक खो रहे हैं। हर संस्कृति के अपने ही प्रोस और कंस होते है, उसी तरह प¶िचमी संस्कृति के भी है। ये हम पर निर्भर है कि हम अच्छा लें और बुरा दूर फेंक कर खुद को और आने वाली पीढ़ी को मजबूत करें।
महात्मा गांधी ने कहा है "दरवाजे और घर की खिड़कियां थोड़ा खोलकर रखना, खुली ताजा हवा के लिए, पर भारी हवा से नहीं उड़ जाना।' हमें विदे¶ाी संस्कृति के सकारात्मक पक्ष को देखने की को¶िा¶ा करनी चाहिए और इसके नकारात्मक पक्ष को अनदेखा करना चाहिये।
बहुतेरे लोग कहते हैं कि प¶िचमी वैज्ञानिक संस्कृति के बिना कोई भी दे¶ा विकास नहीं कर सकता। किसी हद तक यह बात ठीक भी है क्योंकि आधुनिक समय में तरक्की के लिये सर्वग्राही संस्कृति अपनाये बिना दूसरी राह नहीं है। प्रौद्योगिकी, अर्थव्यवस्था, जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिये नयी तकनीकों को सीखना, अपनाना भी जरूरी है। इसके एक दूसरा पक्ष यह भी है कि आधुनिक म¶ाीनों और नये-नये उपकरणों ने इंसान को आलसी बना दिया है। हम सब नए उपकरणों पर इस कदर आश्रित हो रहे हैं, उनके बिना कुछ कदम भी चल पाना भारी हो रहा है। बचपन में हमें सिखाया गया था कि "बेटा, म¶ाीनों पर पूरी तरह आश्रित मत होओ, वरना हाथों में जंग लग जायेगी।' आज उस बात के मायने समझ आ रहे हैं। आज हम अमेरिकी संस्कृति का इस कदर अनुसरण कर रहे हैं कि जीवन का कोई भी कोना अछूता नहीं बचा है। भौतिकता, पैसा, व्यक्तिवादी  जीवन बढ़ता जा रहा है। अमेरिकी जीवन¶ौली में बड़े नाप का बड़ा महत्व है। वे मानते हैं कि बड़ा हमे¶ाा बेहतर है, बड़ी कारों, बड़ी इमारतों, बड़े घरों, बड़ी नौकरी, बड़ा भुगतान, बड़े ¶ाहर, बड़े फुटबॉल खिलाड़ी, बड़े स्टोर्स, बड़ी बंदूकें, बड़े ब्राांड - सब कुछ बड़ा। अमेरिका में तीन साइज चलते हैं। बड़ा, वि¶ााल, और वि¶ााल! (एत्ढ़, क्तद्वढ़ड्ढ, क्रत्ढ़दठ्ठद्यत्ड़) अमेरिकन्स लगातार 'द्यद्धठ्ठद्मण्त्दढ़' करते हैं या फिर पिछले साल के मॉडलों को बदलते रहते हैं, फिर वो उनकी कार हो, घर हो या पति या पत्नी।
अमेरिका में "स्पेस' एक ऐसा "टर्म' है जिसको अभी तक समझ पाना कठिन ही है। सबको यहां स्पेस की जरूरत  होती है। बच्चों को स्पेस दो, पति को स्पेस दो, पत्नी को स्पेस दो, दोस्तों को भी स्पेस दो। समझ से परे है यह स्पेस। कितनी स्पेस और क्यों स्पेस।
"क्ष् थ्र् ढ़ड्ढद्यद्यत्दढ़ डदृद्धड्ढ" (मैं बोर हो रहा हूँ) का भी कुछ अलग ही कांसेप्ट  है। यहाँ समय-समय पर सब बोर होने की बातें करते सुनाई देते हैं। बच्चे हों या माता-पिता सभी को चेंज (ड़ण्ठ्ठदढ़ड्ढ) चाहिए होता है। अभी भारत में इस तरह की जुल्मे कम ही सुनाई देते हैं।
भारत में लोगों के पास बोर होने का समय कहाँ है। दुनिया जहान के इतने मसले होते हैैं - ये रि¶तेदार, वो ¶ाादी फंक्¶ान, ये त्योहार, वो त्यौहार में ही टाइम निकल जाता है। मुझे याद नहीं कभी मेरी माँ ने कहा हो "मैं आज बोर हो रही हूँ' या "मुझे चेंज चाहिए रोजनदारी के कामोें से।' वे आज भी अपनी नौकरी के साथ-साथ घर-परिवार को बिना किसी ¶िाकन के उतने ही उत्साह से चलाती आ रही हैं, जबकि हम युवा होकर भी जरा-सा घर और बहार का काम करने के बाद बोर होने की बातेें करने लगते हैैं और ¶ाुरू हो जाते हैैं - "आईएम गेटिंग बोर' और "आई नीड चेंज' का जुल्मा बोलने।
कई सालों से ¶िाकागो में हूँ तो देखने को मिलता है कि अमेरिका में लाइफ फ़ास्ट लेन में ही चलती है। अगर आप इतना फ़ास्ट नहीं चल सकते तो साइड में होना ही बेहतर है। फ़ास्ट ¶ाब्द अमेरिका का फेवरेट है। फ़ास्ट कोर्स, फ़ास्ट लिविंग, फ़ास्ट मैन, फ़ास्ट वीमेन, फ़ास्ट फ़ूड। इसी वजह से ¶ाायद अमेरिका ने  फ़ास्ट फ़ूड इज़ाद किया। उनको खाने में भी समय ख़राब नहीं करना है, क्योंकि टाइम पैसा है और पैसा ही सबकुछ। (टाइम इस मनी, मनी इस एवरीथिंग)। अमेरिकन की देखादेखी पूरी दुनिया में यह चलन बढ़ता जा रहा है।
अक्सर ही अमेरिका में किसी भी काम के लिये लम्बी लाइन नहीं लगती। वो ग्रोसरी स्टोर हो, सरकारी ऑफिस या अन्य दीगर स्थान। अमूमन हरेक घर में दो से तीन कारें, घर के हरेक कमरे में फ़ोन और टेलीविज़न का कनेक्¶ान, पानी के हॉट और कूल नॉब, ये उनकी सामान्य सम्पन्नता के प्रतीक हैं। पर दूसरी तरफ देखें तो हरेक तीन मिनट में यहां  कार चोरी होती है। अधिकां¶ा मां-बाप अकेले या फिर ओल्ड ऐज होम्स में रहते हैं। स्कूल ड्रग ट्रफिकिंग की जगह बने हुए हैं, बच्चे बन्दूकें स्कूल ले आते हैं।
प¶िचमी संस्कृति और भारतीय संस्कृति में बड़ा अंतर पारिवारिक मूल्यों में देखने को मिलता है। भारतीय अब भी परिवार उन्मुख है, वहीं अमेरिकन्स व्यक्ति उन्मुख। औसत भारतीय माता-पिता अपने बच्चों के लिए तब तक पैसा ख़र्च करते रहते जब तक कि वे स्थापित नहीं हो जाते, जबकि अमेरिकी बच्चे कॉलेज में आते-आते अपना खर्चा-पानी खुद जुटाना ¶ाुरू कर देते हैं। इस कारण अनेकों अमेरिकन बच्चे कॉलेज से ड्रॉपआउट भी होते हैं। हायर एजुके¶ान बहुत कम कर पाते है।
प¶िचमी संस्कृति से अच्छी बातें लेने में कोई बुराई नहीं है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम पूरी तरह से उन्हें अपनाकर अपनी पहचान ही भूल जायें। इसमें कोई ¶ाक नहीं कि प¶िचमी संस्कृति दुनिया की अगुआई कर रही है। वह व्यक्ति स्वतंत्रता को अतिरेक में स्वीकार करती है। लेकिन हम भारतीयों को अपनी अस्मिता और पहचान बनाये रखने के लिये अपनी सांस्कृतिक विरासत को अपनाये रखना होगा।

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^