btn_subscribeCC_LG.gif
डॉ. नूपुर अशोक
डॉ. नूपुर अशोक

राँची विश्वविद्यालय से हिन्दी साहित्य में एमए, पीएचडी। रचनाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। आकाशवाणी से प्रोग्राम प्रेजेंन्टर के तौर पर भी जुड़ी रहीं। एक कविता संग्रह प्रकाशित। अकादमी ऑफ फाइन आट्र्स कोलकाता में चित्र प्रदर्शनी।


सुनो नदी उसने कहा
सुनो नदी नदी तुम यूँ ही बहती रहनानदी तुम कभी भी कुछ मत कहनानदी तुम नहीं हो सिर्फ नदीतुम्हें कहा है हमने "माँ"माँ की तरह तुम सब कुछ सहनानदी तुम कभी भी कुछ मत कहनाबूँद-बूँद मरनाबस पा
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^