btn_subscribeCC_LG.gif
डॉ. बागेश्री चक्रधर
डॉ. बागेश्री चक्रधर
3 जनवरी 1954 को हाथरस में जन्म। एम.ए. (हिन्दी), बी.एड. पी-एच.डी., संगीत प्रभाकर (शास्त्रीय गायन)। देश-विदेश में कविता पाठ किया। आकाशवाणी व दूरदर्शन की कलाकार हैं। प्रकाशित पुस्तकें : "तानसेन', "मकरंद ही ठीक है' (मुक्तक संकलन), "व्यावहारिक समीक्षा का पहला कदम', "समीक्षा माने ज्ञानराशि'। संगीत विषयक लेख एवं पुस्तक समीक्षाएँ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। सम्प्रति : असिस्टेंट प्रोफेसर, हिंदी, दिल्ली वि·ाविद्यालय।

विदेशी छात्रों की कारकपरक त्रुटिया
विदेशी छात्र एवं छात्राएं हिंदी सीखने के लिए भारत आते हैं अथवा अपने ही देश में हिंदी सीखते हैं, उनकी सीमाएं और शक्तियां भिन्न प्रकार की होती हैं। प्रत्येक छात्र अपने देश की भाषा की संरचना के अनुसार हिंदी को समझने की चेष्टा करता है। अनेक देशों में
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^