ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
चिकित्सा सेवा की स्वयंसेवी राह
01-Feb-2016 12:00 AM 3300     

भारतीय चिकित्सकों ने विश्व को जो दिया उसके बारे जितनी भी बात करें कम है। पूरी दुनिया में भारतीय चिकित्सक अपना उल्लेखनीय स्थान बना चुके हैं। आज अनगिनत भारतीय चिकित्सक पूरी दुनिया में लोगों की सेवा कर रहे हैं। शिकागो में चिकित्सा सेवा के क्षेत्र में एक आर्गेनाइजेशन सालों से काम कर रहा है। जिसका नाम है - आईएएमए (इंडियन अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन)। 1979 में डॉ. शिवम गंजू ने इंडियन अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन की नींव डाली। तकरीबन चार सौ भारतीय मूल के चिकित्सकों को डॉ. शिवम ने मेल पहुँचाया और अपनी बात रखी। उस समय करीब सौ चिकित्सक आगे आये और आईएएमए आर्गेनाईजेशन के लिए काम करना शुरू किया। आईएएमए शिकागो में भारतीय अमेरिकी मूल के चिकित्सकों का प्रतिनिधित्व करता है और एक गैर लाभ पेशेवर संगठन है जो चिकित्सीय सेवा के साथ, अनुसंधान कार्यों में भी अपना योगदान दे रहा है। अपने चैरिटेबल फाउंडेशन के माध्यम से जरूरतमंदों की सेवा कर रहा है। इतना ही नहीं मेडिकल के छात्रों, निवासियों, साथियों और युवा चिकित्सकों को समर्थन और उनके भविष्य के लक्ष्यों को साकार करने के लिए शैक्षिक गतिविधियों, छात्रवृत्ति और अभ्यास के विकास को भी यह प्रोत्साहित कर रहा है। 1984 में आईएएमए को उसकी सेवाओं के लिए न्यूयॉर्क सिटी में पुरस्कृत किया गया। इसके बाद इंडियन अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन को उसके मेडिकल फील्ड, सामाजिक और रिसर्च कार्यों के लिए पुरस्कृत किया गया। 1993 में महाराष्ट्र भूकम्प पीड़ितों के लिए आईएएमए ने करीब बीस हजार डॉलर का फण्ड बना कर दिया। इस तरह के अनेकों चैरिटी के कार्य इंडियन अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन करता चला आ रहा है। सभी प्रवासी भारतीय डॉक्टर्स न केवल आईएएमए के चैरिटेबल फाउंडेशन शिकागो में 2645 डब्ल्यू पीटरसन एवेन्यू में एक नि:शुल्क स्वास्थ्य क्लिनिक भी चला रहे हैं। क्लीनिक रोगियों के लिए बुनियादी प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल, निवारक चिकित्सा देखभाल और सार्वजनिक स्वास्थ्य शिक्षा प्रदान करता है। समय-समय पर स्वास्थ्य देखभाल अनुसंधान क्लीनिक में आयोजित किया जाता है। औसतन यह संगठन तीन हजार से अधिक मरीजों को हर साल सेवाएं प्रदान कर रहा है। हाल ही में आईएएमए की पैंतीसवीं वर्षगांठ बड़ी ही धूमधाम से मनाई गई जिसमें अनेकों चिकित्सकों को लाइफ टाइम अवार्ड से सम्मानित किया गया। आईएएमए के वर्तमान प्रेजिडेंट डॉ. समीर के. शाह के अनुसार इंडियन अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन का इतिहास बहुत पुराना होने के साथ ही चैलेंजिंग और उपलब्धियों से भरा रहा है। आईएएमए को आज इस मुकाम पर पहुंचने का श्रेय उन सभी योग्य, अनुभवी और मेहनती चिकित्सकों को जाता है जिन्होंने अपने पेशे को दिल से अपनाकर अपनी सोसाइटी की सेवा की और आज भी करते चले आ रहे हैं। आईएएमए कई नए वेलफेयर और अवेयरनेस के कार्यक्रम तैयार कर रहा है जिसमें नए मेडिकल स्टूडेंट्स और ट्रेनी डॉक्टर्स भी बढ़-चढ़कर अपना योगदान दे रहे हैं। डॉ. शाह के अनुसार इस साल ह्मदय रोग (कार्डिवस्कुलर डिजीज) और मधुमेह (डीएबीटीस) जैसी बीमारियों के लिए लोगों को जागरूक करना और उससे पीड़ित लोगों को बेहतरीन इलाज़ की सुविधा प्रधान करना, हमारा फोकस रहेगा। एसोसिएशन के कार्यों का विस्तार सम्पूर्ण अमेरिका में हो रहा है तथा गतिविधियाँ नई ऊँचाइयों को छू रही हैं

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^