ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
अनूठा द्वीप तस्मानिया
01-Jul-2016 12:00 AM 5417     

शाीतोष्ण जलवायु होने के कारण तस्मानिया पहाड़ी एवं ठंडा प्रदेशा है। इसकी
नैसर्गिक शाोभा में विशााल पहाड़ों व घाटियों के साथ दो नदियाँ, झरने, झीलें,
सुंदर सागर तट, विशिाष्ट वनस्पतियाँ और जीव-जन्तु सम्मिलित हैं।

ऑस्ट्रेलिया का दक्षिणवर्ती प्रदेशा तस्मानिया मेनलैंड (ऑस्ट्रेलियन महाद्वीप) से दो सौ चालीस किलोमीटर नीचे और निकटतम पड़ौसी देशा न्यूज़ीलैंड से लगभग दो हजार किलोमीटर दूरी पर स्थित है। तस्मानिया द्वीप के एक ओर हिन्द व दूसरी और प्रशाांत महासागर हैं। बास जलडमरूमध्य तस्मानिया को ऑस्ट्रेलियन महाद्वीप से अलग करता है।
लगभग पाँच लाख आबादी वाला तस्मानिया दस हज़ार वर्ष पहले तक ऑस्ट्रेलियन महाद्वीप से जुड़ा हुआ था और वहां के मूल एबोरिजिनल निवासी तस्मानिया में भी रहते थे। डच अन्वेषक एबल तस्मान् ने पहली बार 1642 में तस्मानिया को ढूंढा था। उस समय एबोरिजिनल निवासियों की संख्या तीन से सात हज़ार तक थी। कालांतर में, सन् 1803 से ब्रिाटिशा राज्य (एम्पायर) ने तस्मानिया का एक दण्डित लोगों की कॉलोनी या उपनिवेशा बस्ती के रूप में उपयोग में लाना आरम्भ किया। तब तक ऑस्ट्रेलियाई महाद्वीप पर ब्रिाटिशा साम्राज्य का अधिकार हो चुका था। अगले पचास वर्षों में ब्रिाटिशा मूल के पचहत्तर हजार अपराधियों, दोषियों को ऑस्ट्रेलिया भेजा गया। आज भी छोटी बस्तियों में आपको तस्मानिया के प्रथम दस हजार नागरिकों की यादगार स्वरूप लगार्इं र्इंटें मिल जाएँगी जिनमें अपराधी का नाम, अपराध, दण्ड, एवं जहाज़ का नाम, यात्रा के वर्ष के साथ अंकित हैं। ब्रिाटिशा दंडितों को ऑस्ट्रेलिया पहुँचाने के लिए 19वीं शाताब्दी में प्रयुक्त बहुत से ब्रिाटिशा पानी के जहाजों के नाम भारतीय थे, जैसे गंगा, राजा।
शाीतोष्ण जलवायु होने के कारण तस्मानिया पहाड़ी एवं ठंडा प्रदेशा है। इसकी नैसर्गिक शाोभा में विशााल पहाड़ों व घाटियों के साथ-साथ नदियाँ, झरने, झीलें, सुंदर सागर तट, विशिाष्ट वनस्पतियाँ और जीव-जन्तु सम्मिलित हैं। सरकार और जनता के प्रयासों से यहाँ का वातावरण प्रदूषण विहीन है। वि·ा में सर्वप्रथम पर्यावरण पार्टी का संयोजन तस्मानिया में हुआ था। तस्मानिया की 45 प्र.शा. प्राकृतिक सम्पदा नेशानल पार्क, फॉरेस्ट रिज़र्व और यूनेस्को की वल्र्ड हेरिटेज साइट्स के रूप में सुरक्षित है। कुछ विशााल पहाड़ों के ऊपर झीलें बनी हुई हैं। ऐसे क्षेत्रों में यातायात का कोई साधन नहीं है और वहाँ पैदल या हेलीकॉप्टर द्वारा ही पहुँचा जा सकता है। जगह-जगह लम्बी पैदल यात्रा अर्थात हाइकिंग, बुशा वॉकिंग के लिये पगडंडियाँ बनी हुई हैं जहाँ आप कूड़ा नहीं फ़ेंक सकते। समुद्री तट के पास स्थित कुछ संरक्षित स्थानों तक पहले नाव या कार द्वारा और फिर पैदल चल कर पहुँचते हैं।
तस्मानिया में पाये जाने वाले विविध प्रकार के वनस्पति क्षेत्रों में शाीतोष्ण वर्षावन, विशााल घास के मैदान, यूकलिप्टिस आदि सदाबहार पेड़ों के जंगल और विभिन्न वृक्ष-विहीन क्षेत्र सम्मिलित हैं। प्रथम वनस्पति उद्यान 1818 में तस्मानिया के सबसे बड़े नगर और राजधानी होबार्ट में स्थापित किया गया था। यहाँ 19वीं शाताब्दी के प्रथम चरण में समस्त दुनिया से एकत्रित वृक्षों में हिमालय से लाये देवदार व चीड़ भी हैं। वर्तमान में ऐसे वृक्ष राष्ट्रीय ट्रस्ट के अंतर्गत सुरक्षित हैं। पक्षियों, मछलियों की नवीन प्रजातियाँ, अंडे देने वाले स्तनपायी जन्तु, जैसे एकिडना, शिाशाु-धारक जन्तु, जैसे वालाबी, तस्मानियन डेविल इत्यादि, यहाँ की बहुमूल्य जैविक सम्पदा हैं। तस्मानियन टाइगर (भेड़िया) विलुप्त हो चुका है। एक और खासियत यहाँ की उन्नीसवीं एवं प्रारम्भिक बीसवीं शाताब्दी में बनी इमारतें हैं जिन्हें मूल रूप में ही रखा व सँजोया गया है। विक्टोरियन काल में बनी इमारतों, उद्यानों आदि को देख कर ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे समय ठहर गया हो। पारम्परिक धरोहर को अक्षुण्ण रखने हेतु तस्मानिया में फल, पौधे, बीज, जंतु इत्यादि जैविक सामग्री ऑस्ट्रेलियन महाद्वीप तक से आयात करने के लिये पहले सरकारी अनुमति लेना आवशायक है। लगभग दो लाख आबादी वाले होबार्ट व लगभग सवा लाख की आबादी वाले लॉन्सेस्टन यहाँ के सबसे बड़े शाहर हैं। तस्मानिया यूनिवर्सिटी के कैंपस होने के कारण यहाँ आपको साउथ एशिायाई शिाक्षक, विद्यार्थी, एवं व्यापारी मिल जायेंगे। पिछले पंद्रह-बीस वर्षों में प्रवासियों की संख्या बढ़ी है। होली, दीवाली पर सामूहिक आयोजन होते रहते हैं।
ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के प्रमुख नगरों और तस्मानिया के बीच हवाई व समुद्री यातायात के साधन उपलब्ध हैं। आप छोटी-सी हवाई या समुद्री यात्रा के पशचात सिडनी और मेलबर्न आसानी से पहुँच सकते हैं जहाँ भारतीय भोजन, पोशााक इत्यादि उपलब्ध हैं।
तस्मानिया की एक तिहाई आबादी में वे लोग सम्मिलित हैं जो या तो सेवानिवृत्त हैं या फिर सरकार पर आर्थिक रूप से आश्रित हैं। चूँकि द्वीप में औद्योगीकरण अधिक न होने के कारण जीविका के साधन सीमित हैं अतः वहाँ का युवा वर्ग भी अधिकतर उच्च शिाक्षा या रोजगार के लिये सिडनी व मेलबर्न जैसे बड़े शाहरों की ओर अग्रसर होता है। वर्तमान पीढ़ी के लिये इन सीमाओं के होने के बावजूद तस्मानिया वि·ा के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत करता है। जिस तरह यहाँ प्रकृति को संरक्षित किया गया है उसके लिये ऑस्ट्रेलिया के साथ-साथ समस्त वि·ा की भावी पीढ़ियाँ सदैव आभारी रहेंगी। हाल ही में तस्मानिया की वल्र्ड हेरिटेज साइट्स में कुछ विशोष प्रकार के पेड़ों की कटान न करने वाले यूनेस्को के सुझाव को ऑस्ट्रेलिया ने पूर्ण रूप से स्वीकार किया है। काशा भारत की चहुँ ओर बिखरी प्राकृतिक और ऐतिहासिक संपदा को भी दीर्घकालिक दृष्टिकोण से देखा व सँजोया जाता।

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^