btn_subscribeCC_LG.gif
आलोक श्रीवास्तव
आलोक श्रीवास्तव

15 अगस्त 1968 को उत्तर प्रदेश में जन्म। आईआईएमसी दिल्ली से पत्रकारिता में स्नातकोत्तर डिप्लोमा। धर्मयुग, अमर उजाला, नवभारत टाइम्स के अलावा तथा अहा जिन्दगी में सम्पादक रहे। मुंबई में पत्रकारों के संगठन से भी जुड़े रहे हैं। कविता संग्रह - वेरा उन सपनों की कथा कहो!, जब भी बसंत के फूल खिलेंगे, यह धरती हमारा ही स्वप्न है!, दिखना तुम सांझ तारे को, दुख का देश और बुद्ध प्रकाशित। अख़बारनामा : पत्रकारिता का साम्राज्यवादी चेहरा, शहीद भगत सिंह : क्रांति के प्रयोग (कुलदीप नैयर द्वारा लिखित भगत सिंह की जीवनी का अनुवाद) विश्व ग्रंथमाला का संपादन।


भारत में ज्ञान और शिक्षा की विफलताएं
जयपुर के विनोद भारद्वाज जी ने गालिब की बेहतरीन जीवनी लिखी है, आत्मकथात्मक शैली में। यह इस वर्ष के अंत तक संवाद से प्रकाशित होने वाली है। इस पर विस्तार से चर्चा बाद में। फिलहाल इसका संपादन करते हुए जहां रुका हूं, वह मिर्जा गालिब की 1826 में की गई क
लेखक के निर्माण की प्रक्रिया पर दृष्टि
रावसाहेब कसबे मराठी के बहुत बड़े विचारक-लेखक हैं, उनका समग्र साहित्य हिंदी अनुवाद में संवाद से प्रकाशित हो रहा है। दो पुस्तकें पहले छप चुकी हैं -- आंबेडकर और माक्र्स, मनुष्य और धर्मचिंतन। चार किताबें जनवरी, 2019 में प्रकाशित हो गई हैं। भारत में साम
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^