ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
ट्रिनिडाड की बरसात में देश की यादें
01-Jul-2016 12:00 AM 2365     

बरसात का मौसम हमेशाा ही मन में रोमांच पैदा करने वाला होता है। ट्रिनिडाड और टोबेगो में बरसात का मौसम जून से दिसम्बर तक छह महीनों का होता है। यहाँ पर बरसात अपने उत्तर भारत की तरह सिर्फ जुलाई से अगस्त में नहीं होती है। बल्कि कभी-कभी साल के किसी भी महीनों में पानी बरस जाता है।
यहाँ पूरे प्रायद्वीप पर शाायद इसलिए ही चारों तरफ बहुत हरियाली है। देशा के लगभग हरेक हिस्से में सभी के घरों में छोटे या बड़े बगीचे अवशय होते हैं। यहाँ का वातावरण ही कुछ ऐसा है कि पेड़-पौधे बहुत आसानी से लग जाते हैं।  मोटे तौर पर कहा जा सकता है कि यहाँ की जलवायु कुछ-कुछ गोवा जैसी है। तकनीकि भाषा में कहें तो साधारणतया यहाँ का तापमान लगभग 25 डिग्री सेंटीग्रेट के आसपास बना रहता है।
पूरे ट्रिनिडाड और टोबेगो में लगभग 40 इंच बरसात होती है और उत्तर पूर्वी क्षेत्र में ज्यादा पानी गिरता है। यह टापू तूफानी क्षेत्र से थोड़ा दूर है। इसलिए यहाँ तूफान तो नहीं आते लेकिन आसपास के किसी टापू पर तूफान आने से तेज हवाएँ व तेज बरसात यहाँ हो जाती है। मौसम विभाग की जानकारी द्वारा उस सबके लिए ट्रिनिडाड वासियों को अपने आपको तैयार करने के लिए समय मिल जाता है।
यह देशा टापू होने के कारण इसके चारों ओर समुद्र व समुद्री तट हैं। इसके समुद्री तट बहुत ही सुंदर हैं और बालू बिलकुल महीन है। समुद्र का पानी भी बिल्कुल साफ होता है। यदि आप पानी में खड़े हैं तो अपने पैर देख सकते हैं।  समुद्र का पानी नीला है। शाायद इसीलिये इसे "ब्लू कैरिबियन सी' बोलते हैं। इसके एक दिशाा में अटलांटिक महासागर है तथा दूसरी दिशाा में गल्फ ऑफ पारिया है। समुद्री तट पर सभी जगह नारियल के पेड़ हैं। शानिवार, रविवार या फिर किसी भी अवकाशा वाले दिन समुद्री तट सैलानियों और ट्रिनिडाड वासियों से भरा होता है। वैसे भी नयी पीढ़ी के ट्रिनिडाड  के लोगों का मौज मस्ती करने का स्वभाव है। बरसात लगातार नहीं होती है, इसलिए समुद्र तट पर सप्ताहांत में पिकनिक मनाने जाना, यहाँ पूरे वर्ष चलता रहता है।
शााम को मौसम ठंडा और सुखकर होता है। दोपहर में तापमान शााम की अपेक्षा कुछ ज्यादा होता है, लेकिन चारों ओर समुद्र होने के कारण हवा सदैव ठंडी चलती है। यहां इसलिए गर्मी का अहसास नहीं होता है। यहाँ की हवा के लिए सदैव एक विशोषण उपयोग किया जाता है - "कूल कैरिबियन ब्राीज।' यहाँ का मौसम इतना अच्छा होने के कारण दूसरे ठंडे मुल्कों से बहुतेरे लोग यहां छुट्टियाँ मनाने आते हैं।
उत्तर भारत में जब बरसात का मौसम आता है, तो कई बार तीन-तीन दिन तक मूसलाधार वर्षा होती है। ट्रिनिडाड में ऐसा नहीं है। यहाँ यदि किसी दिन ज़ोरों से बरसात हो रही हो और भजिया बनाने बैठें, तो जब तक बेसन घोलेंगे, आलू, प्याज, धनिया, मिर्ची काटेंगे, बादल-बरसात सब गायब हो जाएगी और सूर्य भगवान अपनी पूरी गरिमा के साथ उदीयमान हो जायेंगे। यह है ट्रिनिडाड की बरसात का एक छोटा-सा नमूना। पल में धूप और पल में बरसात। इसलिए  यहां बरसात में कीचड़ भी नहीं होता। मौसम हमेशाा खिला-खिला रहता है।
इस देशा में, भारत के अपने समय के महान कवि बिहारी जी की नायिका की तरह बादल उमड़ते देख, नायिका के मन में विरह वेदना व्याप्त होने से पहले ही धूप निकल आती है। मोर नाचने का तो प्रशन ही नहीं उठता क्योंकि यहाँ मोर हैं ही नहीं तो नाचेंगे कहाँ से।

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^