btn_subscribeCC_LG.gif btn_buynowCC_LG.gif

शन्नो अग्रवाल
शन्नो अग्रवाल

9 दिसंबर 1947 को पूरनपुर, पीलीभीत उ.प्र. में जन्म। बचपन से कविताएँ लिख रही हैं। लखनऊ युनिवर्सिटी से एम.ए. किया। विवाह के बाद लंदन आ गयीं। काव्य-संग्रह "रोशनदान" एवं "ओस" प्रकाशित। बाल काव्य-संग्रह "छुट्टी के दिन" प्रकाशित।


रात में हमारी आत्मायें
हम सभी जानते हैं कि मृत्यु जीवन का परम सत्य है। इस दुनिया में अकेले आकर जाना भी अकेले ही होता है। पर जब तक शरीर में प्राण हैं तब तक किसी का साथ हो तो अकेलापन बहुत हद तक कम हो जाता है। जीवन में कुछ बहार हो तो ज़िंदगी का सफर कुछ आसान हो जाता है। कई ब
कादम्बरी मेहरा की कहानियों में नारी
दूर के ढोल सुहावने लगते हैं। भारत में भी लोगों को यहाँ यूके की लाइफ के बारे में सोचकर ऐसा ही लगता है। शादी के बाद विदेश में पति के साथ बसने का सपना अधिकतर भारतीय लड़कियाँ देखा करती हैं और जो यह सपने नहीं भी देखती हैं तो उन्हें भी कई बार तकदीर विदेश
तरक्की की कीमत
प्रवासी देशों में रहने वाले भारतीयों के हिंदी बोलने के बारे में बात करें तो हमें यह सोचना होगा कि हिंदी को हम कितना जानते हैं। देखा जाए तो हिंदी भाषा तमाम भाषाओं से मिलकर बनी है। इसमें पारसी, फारसी, टर्किश, अरबी, चीनी व पोर्तुगीज आदि भाषाएँ ऐसे घु
ब्रिटेन के गाँव-देहात
दुनिया के अन्य देशों की तरह यूके में भी तमाम ग्रामीण क्षेत्र हैं जहाँ छोटे-छोटे सुन्दर व आकर्षक गाँव बसे हुए हैं। यहाँ के लोगों को अपने इन गाँवों पर बहुत गर्व है। उत्तरीय आयरलैंड से लेकर स्काटिश हाईलैंड और वेल्स की खूबसूरत वादियों और कार्नवाल के म
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^