btn_subscribeCC_LG.gif
सड़क और पगडंडी
02-Jun-2017 03:07 AM 2937     

एक नगर की ओर जाता है और दूसरी गाँव की ओर। गाँव और नगर के बीच रास्ते तो कई हैं लेकिन समानताएं नहीं हैं। पिछले कई दशकों से इन्हीं रास्तों से लोग ग्रामीण जीवन से नगर की चकाचौंध की ओर भाग रहे हैं। लेकिन अब नगरी जीवन अपने आकर्षक चोले को फेंक विकराल रूप में अपनी विराट समस्याओं के साथ सामने आ गया है।  नगरों ने अपनी तेज़ रफ्तार में जीवन को पीछे छोड़ दिया है। उसकी रफ्तार के नीचे अक्सर कई जिन्दगियां कुचली जाती हैं, इस रफ्तार के आगे जिन्दगी की कोई क़ीमत नहीं है, जिन्दगी रहे न रहे, इसकी रफ्तार कम नहीं होनी चाहिए। इस रफ्तार ने जीवन को इतना तेज़ बना दिया है कि जीने के लिए ही समय नहीं है। हम कब पैदा होते हैं और कब मर जाते हैं, पता ही नहीं चलता। हाँ, नगरों ने हमें आधुनिकता के सारे साधन दिए हैं। ये साधन हमारे लिए जीना आसान बनाते हैं। परंतु ध्यान से देखा जाए तो जीवन आज अधिक दुष्कर हो गया है। जिन साधनों से हम अपना काम आसान करते हैं वे ही हमारा सारा समय खा जाते हैं, कभी-कभी तो घातक भी साबित होते हैं, जैसे वाहन, लिफ्ट, गैस का सिलेंडर या साधारण सा एक प्रेशर कुकर। गाँवों में साधन कम हैं लेकिन जीवन भी उतना ही सादा-सरल और ठहराव से भरा है।
नगरों के ये साधन हमें आत्मनिर्भर बनाते हैं। मनोरंजन के लिए हमें साथी की आवश्यकता नहीं पड़ती- टीवी एवं इंटरनेट है न! कहीं भी जाना है तो गाड़ी में बैठे और चल दिए, किसी पर निर्भर रहने की आवश्यकता नहीं है। पर सोचने वाली बात यह है कि क्या वाकई हम आत्मनिर्भर हैं? ध्यान से देखा जाए तो हम दूसरों पर पहले से भी ज्यादा निर्भर होते जा रहे हैं। अगर घर में पानी नहीं आ रहा, कोई पाइप टूट गया हो, गाड़ी खराब हो गई है, क्रेडिट कार्ड गुम हो गया हो, मार्केट बंद हो और ऐसी अनेक स्थितियां हैं जो हमें यह आभास दिलाती हैं कि हम दूसरों पर दिन-प्रतिदिन कितना निर्भर होते जा रहे हैं। यह निर्भरता भी ऐसी है कि हम चाह कर भी कुछ नहीं कर सकते, जैसे की दूध के पैकटों में मिलावट हो, तब भी हमें वही दूध लेना है, सब्जियाँ ज़हरीली हों तब भी वही खाना है, रेस्टोरेंट का खाना कितनी ही गंदगी से बनाया गया हो उसी से काम चलाना है, बस की सीटें कैसी भी हों उसी पर बैठना है और तो और आपको पसंद हो या न हो होटलों में अगर वेस्टर्न कमोड लगा है तो भी उसी पर बैठना है, आखिर बैठेंगे नहीं तो करेंगे क्या?
यह निर्भरता का जाल है जो प्रतिदिन गहरा होता जा रहा है जिसमें नगरवासी फँसता चला जा रहा है। जहाँ एक ओर खाने का सामान उपलब्ध नहीं, वहाँ दूसरी ओर सरकारी गोदामों में टनों खाद्य सामग्री सड़ जाती है। एक ओर रहने को छत नहीं तो दूसरी ओर कई गैरकानूनी मक़ान ध्वस्त कर दिए जाते हैं। नगर के किसी हिस्से में कुव्यवस्था से नल में पानी नहीं आ रहा है और दूसरे हिस्से में पंप लगाकर भूमिगत गैराजों से बारिश का पानी निकाला जा रहा है। यह हुई नगरीय व्यवस्था।
गांव कहीं ज्यादा सक्षम एवं आत्मनिर्भर हैं। गाँव अपनी आवश्यकता अनुसार ही उत्पादन करता है और जितना उत्पादन होता है वह वहीं खप भी जाता है और तो और नगरों की आवश्यकता भी पूरी करता है।
गाँव में हम संध्या समय एक मंडली बनाकर पीपल के नीचे बैठ, गप्पें हाँककर अपनी सारी थकान मिटा सकते हैं। लेकिन शहरों में, मण्डली बनाना तो दूर, अपने बगल वाले फ्लैट में कौन रहता है इसका भी अंदाज़ा नहीं होता, कई बार तो पड़ोसी की मौत का आभास भी तभी होता है जब उसकी लाश की सड़न से हमारा जीना मुश्किल हो जाए और हम पुलिस को ख़बर करें।
जिसे हम पार्टी कहकर मन बहलाव करने की कोशिश करते हैं वह हमारी थकान दूर करने की बजाय हमें और थका देती है। इन सभी पार्टियों के पीछे कोई न कोई मक़सद होता है। बॉस को खुश करना, कोई व्यापार की डील, किसी काम के लिए अधिक से अधिक लोगों से संपर्क बढ़ाना, इत्यादि। अक़सर हमें वहाँ इसलिए जाना पड़ता है ताकि मेज़बान बुरा न मान जाए। यह पार्टियाँ रोज़ नहीं होती लेकिन गाँवों में तो रोज़ सखी-सहेलियाँ, वृद्धों का हुक्कापान, आदमियों की जमात और बच्चों का खेल देखने को मिलता है।
नगरों में स्वास्थ्य का ध्यान रखने के लिए हज़ारों साधन मौजूद हैं जबकि गाँवों में तो वैद्य तक पहुँचते-पहुँचते रोगी समाप्त हो जाता है। हमारे यहाँ बड़े-बड़े अस्पताल हैं, दवाखाने हैं, जिम की व्यवस्था है, टीवी और इंटरनेट पर अपने आप को स्वस्थ रखने के लिए हज़ारों नुस्खे दिन-रात मौजूद रहते हैं। फिर भी देखा जाए तो ग्रामवासी अधिक स्वस्थ्य एवं चिरायु होता है, जबकि नगरवासी तनाव से ग्रस्त एवं हज़ारों रोगों से पीड़ित रहता है, वह प्रदूषित वायु, जल, भोजन एवं मानसिक तनाव को झेलते-झेलते रोगों का भंडार बन जाता है। नित्य नगरवासी नए-नए रोगों से परिचित होते हैं। इतनी व्यवस्था और साधनों के बाद, होना तो यह चाहिए की नगर में मृत्यु दर घटे परंतु आधुनिकता के दौर में आगे बढ़ने के चक्कर में या तो नगरीय जीवन तेज़ रफ्तार वाहनों से कुचला जाता है या किसी लालच का शिकार हो जहरीले हवा, पानी, दवा, दारू या किसी नए रोग के कारण मृत्यु की दौड़ मे आगे निकल जाता है।
हिंसा की वारदातें कहाँ नहीं होती। नगर में तो होती ही हैं गांवों में भी आपसी मतभेदों को लेकर गुटों के बीच हिंसक झड़पें होती हैं। दोनों जगह चोरी और लूट की वारदात होती है। लेकिन गांवों में लोग हज़ार घटनाओं के बावजूद घर के बाहर भी खटिया डालकर चैन की नींद सोते हैं जबकि नगरों का हाल यह है कि घर के सभी खिड़की दरवाजों पर मोटे-मोटे ताले डालने पर भी चैन की नींद नहीं आती।
सदियों से पगडंडियाँ अपनी जगह बनी हुई हैं। आज भी अगर कोई पुरात्तविद् गाँव खोद के निकाले तो पगडंडियाँ अपनी जगह पर मिल ही जाएंगी। जबकि नगर की सड़क प्रतिदिन खोदी जाती है और फिर बनाई जाती है। यह नगर जीवन की अस्थिरता और उसकी बनती-बिगड़ती सभ्यता का प्रतीक है। पगडंडियों से ग्रामवासी अपने-अपने खेतों को सुरक्षित करते हैं ठीक अपने अस्तित्व की तरह। नगरों की सड़क सर्वजन हिताय हैं, उनका किसी के अस्तित्व से कोई लेना देना नहीं है, यहाँ तक की खुद के अस्तित्व से भी नहीं, ये अक्सर खोदी एवं बनाई जाती हैं। सड़क हो या पगडंडी चलनेवाला तो मनुष्य है। सड़क भी जाने क्यूँ लोग इसी पर चलते हैं और पगडंडियों में अपनापन होते हुए भी इस पर कोई नहीं चलना चाहता।

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^