ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
सम्पादकीय Next
बोली, राष्ट्र-भाषा और विश्व-भाषा
दुनिया के सारे समाजशास्त्री और भाषा वैज्ञानिक यह भलीभांति जानते हैं कि पृथ्वी पर जीवन की अभिव्यक्ति सबसे पहले बोली में हुई। बोली प्रकृति और मनुष्य के गहरे अनुभूतिमूलक सम्बन्ध से पैदा होती है। उसकी शुरुआत वनवासीजनों से हुई है जो अपने स्वभाव के अनुर...
हम क्यों करते हैं भाषा की चिंता
केवल भारत में ही नहीं दुनिया के किसी भी देश में किसी के भी घर में कोई बेटा या बेटी पैदा हो और वह एक वर्ष के भीतर अगर बोलना शुरू न करे तो मां-बाप चिंतित हो उठते हैं कि बच्चा क्यों नहीं बोल रहा है। दुनिया के किसी भी घर में पहली चिंता यह नहीं होती कि...
परंपरा और आधुनिकता की समझ
बीसवीं सदी में आधुनिकता की बात खूब हो चुकीं, जिसका यह पैमाना बनाया गया था कि दुनिया के जो विकसित देश हैं उनकी तुलना में दुनिया के अविकसित देश किस तरह उनकी बराबरी करेंगे। यानि परिवहन, तकनीक, बिजली के उत्पादन और सुखोपभोग में दुनिया के अविकसित देश कब...
साहित्य, राजनीति और समाज
उन्नीस सौ छत्तीस ईसवी से पहले भारत के हिंदी साहित्य के परिदृश्य को राजनीति से संचालित नहीं माना जाता था। 1883 ईसवी से जब भारतेंदु हरिश्चंद्र आदि कवियों के नेतृत्व में हिंदी खड़ी बोली ने नयी चाल में ढलना शुरू किया तब से खड़ी बोली और उसमें रचा जा रहा ...
भाषा और देश
भारतीय संस्कृति और साहित्य की लोक और शास्त्रीय परम्परा का प्रतिनिधित्व करने वाले आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी की याद आती है। उन्होंने अपने ललित निबंधों के अलावा भी भारत की भाषा, साहित्य, संस्कृति, समाज और जीवन से जुड़ी बहुआयामी ध्वनियों को अपने विच...
इंसानी बिरादरी का ख़्वाब
जब भी दुनिया में छोटे-बड़े संघर्ष और जंग होती है तब एक सुर सुनाई देता है कि लड़ने से पहले बातचीत कर लो। संवाद से ही रास्ता निकलेगा। क्योंकि यह दुनिया ही ऐसी है कि इसमें बहुत दिनों तक दुश्मनी स्थायी रह ही नहीं सकती। दोस्ती की तरफ हाथ बढ़ाये बिना ये दु...
ये आकाशवाणी है...
सुना है कि पिछले बत्तीस सालों से संध्याकाल छह बजे से प्रातःकाल छह बजे तक चलाया जा रहा ऑल इंडिया रेडियो का कार्यक्रम अब बंद किया जा रहा है। इस रेडियो चैनल पर उर्दू, हिंदी और अंग्रेजी में भी जो नाटक, कविता और वार्ताओं के रोचक कार्यक्रम प्रसारित किये...
निवासिनी हिंदी, प्रवासिनी हिंदी
पिछली एक शताब्दी से हिंदी की व्यथा-कथा कही जाती रही है और आज लगता है कि शायद हम न तो हिंदी की व्यथा जान पाये हैं और न ही पूरी तरह उसकी कथा कह पाये हैं। भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दिनों में आखिर महात्मा गांधी से लेकर भारतेंदु हरिश्चंद्र तक ने यह...
यायावर शिल्पी - पण्डित बनारसीदास चतुर्वेदी
पण्डित बनारसी दास चतुर्वेदी 20वीं सदी की शुरूआत में भारत के उन लोगों में से एक हैं जो स्वतंत्रता संग्राम को प्रारंभ होता देख रहे थे और उसके समानांतर स्वतंत्र हिंदी पत्रकारिता की चिंता भी उन्हें थी। वे अकेले पत्रकार नहीं थे, उन्हें पत्रकारिता को सा...
सात सामाजिक पाप
दु निया में धर्मों का कुछ ऐसा सिलसिला चल निकला कि व्यक्ति पापी करार दिया गया। अगर वह यूरोप का है तो चर्च की खिड़की पर जाकर कन्फेस (स्वीकार) करता है। पर अगर भारतीय सभ्यता पर नजर दौड़ायें तो यहाँ व्यक्ति अपने पाप किसी धर्माचार्य के सामने स्वीकार नहीं ...
भाषा की दुनिया में आदमी
दुनिया का अर्थ ही यह है कि वह जब बनी होगी तो उसकी पहली इच्छा बोलने की रही होगी। क्योंकि दुनिया अगर है तो किसी से बोले बतियाये बिना आखिर चलेगी कैसे। जब शुरू-शुरू में आदमी पृथ्वी पर आया होगा, निश्चय ही उसने भोजन की तलाश की होगी, क्योंकि भूख अपने आप ...
भाषा, समाज और राज्य
यह एक तथ्य है कि भाषा पहले आती है और तरह-तरह के रूपाकारों में बहते हुए स्वरों में और पक्षियों के कलरव में बस जाती है। सदियों तक उसके निराकार शब्द वृक्षों पर लगी पत्तियों की तरह हवा में डोलते रहते हैं क्योंकि उन्हें कोई बोलने वाला नहीं होता। आदमी ब...
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 15.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^