ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
जॉब सैटिस्फेक्शन
01-Nov-2018 10:42 AM 136     

जॉब सैटिस्फेक्शन ढूँढनी है तोे
उन्हें देखें जिनके पास
नौकरी नहीं
उन्हें देखें
जिनके भाग्य में पढ़ाई नहीं
उन्हें देखें जिनके पास
खाने का अन्न नहीं
उन्हें देखें जिनके पास
घर-वस्त्र नहीं
उन्हें देखें, जो लाचार हैं
जीवन की सुख-सुविधाओं से।

उन्हें देखें जो तरसते हैं
जूठे खाने को
उन्हें देखें जिनके पाँव में
जूते नहीं
या उन्हें देखें
जिनके पाँव ही नहीं!
उन्हें देखें जो
चिकित्सालयों में हैं रातें काटते।
उन्हें देखें जिनके,
घर के सदस्य
कभी सीमा से लौटकर नहीं आते
फिर भी रखते हैं आशा।

जॉब सेटिस्फेक्शन तो
स्वयं ईश को भी न होगी
इस धरा को रच कर।
क्योंकि मानव ने तो उसे भी
न है छोड़ा
उसे भी मानव हैं पक्षपाती ठहराते
अपने को न चैन दिला
न स्वयं चैन हम पाते।

यह तो प्रश्न है संतुष्टि का
जैसे कँुआ सागर भी पा जाए
तो भी संतुष्ट न हो
गर हम भी गागर समझकर
गागर में, सागर भरने की
क्षमता रखते हैं तो
सकारात्मक दृष्टिकोण
तो रखना सीखें।

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 12.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^