ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
फ़ीजी के भारतवंशी
CATEGORY : आवरण 01-Nov-2016 12:00 AM 2167
फ़ीजी के भारतवंशी

प्रथम प्रवासी भारतीय श्रमिक के फीजी में अपना पग रखते ही हिंदी का प्रवेश यहाँ हो गया था। क्योंकि अधिकांश श्रमिक भारतवर्ष के हिंदी भाषी प्रदेशों से यहाँ आए थे अतः यहाँ उन्हीं की ही भाषा स्थापित हुई और इस तरह हिंदी भारतीयों की प्रमुख भाषा बनी। आज प्राथमिक पाठशालाओं से लेकर विश्वविद्यालय तक पढ़ाई जाने वाली हिंदी फीजी की एक महत्वपूर्ण भाषा है तथा समाचार माध्यमों में भी इसका महत्वपूर्ण योगदान देखा जा सकता है। फीजी में प्रथम प्रवासी भारतीयों का आगमन सन् 1879 ई के 15 मई को हुआ। तब से लगातार लगभग चालीस वर्षों तक वे मज़दूरों के रूप में यहाँ आते रहे। सन् 1916 ई. तक 60,000 से भी अधिक प्रवासी भारतीय फीजी पहुँचते रहे और श्रमिकों के रूप में इस छोटे से द्वीप को आबाद करते रहे।
भारतवर्ष तब ब्रिटिश सरकार के आधीन था। भारत से दूर सुदूर पूर्व में प्रशांत महासागर के दक्षिण प्रांगण में चार सौ से भी अधिक छोटे-छोटे द्वीपों का समूह फीजी भी ग्रेट ब्रिटेन का एक उपनिवेश था। गन्ना उत्पादन के लिए यह देश अत्यधिक अनुकूल एवं उपयुक्त पाया गया। पड़ोसी देश ऑस्ट्रेलिया की एक चीनी कंपनी फीजी में गन्ने का व्यापार सँभाल रही थी। गन्ना-खेतों पर काम करने के लिए सही श्रमिक मिल नहीं रहे थे।
देश के आदिम निवासी खेत में काम करना नहीं चाहते थे। यह उनकी प्रकृति के विपरीत था। वे मौज-मस्ती और आज जियो कल देखा जाएगा की भावना से ओत-प्रोत थे। फिर भला वे खेत में क्यों काम करते? देश में प्राकृतिक संपदा की कमी नहीं थी। यहाँ के समुद्र और नदियों में विभिन्न प्रकार की मछलियों की बहुतायत रही और छोटे बड़े वनों में जड़-पदार्थ की कमी कभी भी नहीं रही। जीविका के लिए तो उन्हें आवश्यक वस्तुएँ स्वतः ही उपलब्ध थीं। फिर भला मेहनत मशक्कत कर जीविकोपार्जन की आवश्यकता ही कहाँ रही? गन्ना के खेतों में मजदूर बनकर कड़ी मेहनत करना उनके स्वभाव के विपरीत था।
पास-पड़ोस के कुछ अन्य द्वीपों से भी श्रमिक लाए गए। लेकिन उनके द्वारा भी गन्ने की खेती बढ़ाई नहीं जा सकी। कुछ अन्य देशों से भी श्रमिक आयात किए गए, लेकिन उनका भी समय गन्ने के मीठे और स्वादिष्ट रस चूसने में अधिक बीता, खेतों में मरना उन्हें नहीं भाया। अंततः भारतवर्ष से प्रवासी भारतीयों को ही इस कार्य संपादन के लिए सर्वाधिक उपयुक्त समझा गया क्योंकि वे मॉरिशस, सूरीनाम, गुयाना जैसे उपनिवेशों में अपनी योग्यता पहले ही प्रकट कर चुके थे। अतः यह स्वाभाविक था कि फीजी में गन्ने की खेती को सफल बनाने के लिए भारत से ही श्रमिक आयात किए जाएँ। शासकों का निर्णय कार्य रूप में परिणत हुआ और यहाँ की गन्ना-कंपनी को इस ओर आशातीत सफलता मिली।
हज़ारों प्रवासी भारतीय श्रमिक फीजी लाए गए और पाँच वर्षों का शर्तबंदी जीवन व्यतीत कर उनमें से अधिकांश गिरमिटिया यहीं बस गए। इससे गन्ने की खेती को और भी अधिक बढ़ावा मिला। "शर्तबंद अथवा अग्रीमेंट के अंतर्गत आने के कारण वे शर्तबंदी मज़दूर कहलाए और अंग्रेज़ी का तत्सम शब्द अग्रीमेंट बिगड़ कर गिरमिट हो गया। गिरमिट काटने वाले गिरमिटिया कहलाए।
गिरमिट काल में साहित्य रचना नगण्य ही रही है। चालीस वर्षों के इस अंतराल में रामायण, महाभारत, आल्हखंड जैसे महाकाव्यों से संबंधित कथाएँ कहा-सुनी जाती रहीं, साथ ही अन्य प्रेरक एवं मनोरंजक किस्सा-कहानी भी समय काटने का माध्यम रहीं। पूरे गिरमिट काल में अव्यवस्थित ढंग से हिंदी साँस लेती रही, हिंदी जीवित रही। इन दिनों पारंपरिक एवं तत्कालीन परिस्थितियों पर आधारित लोकगीतों का ही बोल-बाला था जो विशेषतः लोक रीतियों को पुष्ट करता रहा, उनका संरक्षण और संवर्धन करता रहा।
सन् 1916 में गिरमिट प्रथा का अंत हो गया लेकिन 1920 तक उसका प्रभाव बना ही रहा। दैनिक जीवन में कोई विशेष बदलाव नहीं आया। लेकिन हाँ, 1920 के बाद अनेक परिवर्तन होने लगे - लोगों के जीने की व्यवस्था में सुधार होने लगा, अपनी संतति के भविष्य को सँवारने-सुधारने के उपाय सोचे जाने लगे। जहाँ-तहाँ पाठशालाओं की स्थापना का प्रबंध होने लगा, लोगों के सोचने-विचारने में भी परिवर्तन आने लगा। व्यवस्थित एवं उन्नत जीवन जीने का संघर्ष ज़ोर पकड़ने लगा।
भारतवर्ष से हिंदी की किताबें मँगाई जाने लगीं। किस्सा-कहानी, नाटक-नौटंकी, मेला-ठेला आदि के माध्यम से हिंदी का प्रचार-प्रसार बढ़ने लगा। लोगों में अपने व्यक्तित्व, अपना परिचय आदि बनाए रखने की ओर ध्यान अधिक आकर्षित होने लगा।
पाठशालाओं के साथ लिखित साहित्य की ओर भी ध्यान आकर्षित होना स्वाभाविक था। पाठशालाओं में औपचारिक रूप से पढ़ाए जाने के लिए तथा स्वयं का ज्ञान संवर्धन हेतु किताबें मँगाई जाने लगीं। फलस्वरूप सदाबृज-सारंगा, गुलबकावली, गुलसनोवर, हातिमताई, सिंहासन बत्तीसी, बैताल-पचीसी, बाला-लखंदर जैसी सहज ग्राह्य पुस्तकों का प्रचार-प्रसार बढ़ने लगा।
किस्सा-कहानी के कारण बैठकें जमने लगीं। आल्हखंड, भरथरी, सारंगा आदि की स्वर-लहरियाँ गूँजने लगीं। मंदिरों का निर्माण होने लगा, रामायण पाठ होने लगे, आल्हा की बैठकें जमने लगीं और साथ ही धार्मिक अनुष्ठान भी होने लगे। धर्म प्रचार हेतु ब्राह्मण-पुरोहित आगे बढ़े, पुरुषों और महिलाओं की मंडलियाँ गाँव-गाँव में बनने लगीं और फिर राम-नवमी, कृष्ण जन्माष्टमी, दीवाली आदि त्यौहारों का समय-समय पर आयोजन होने लगा, बैठकें जमने लगीं।
धार्मिक पर्वों और उत्सवों की अभिवृद्धि के साथ-साथ, राष्ट्र के अनेक इलाकों में रामलीला और दशहरा का भी आयोजन होने लगा। रामायण, प्रेम सागर, विश्राम सागर, आल्हखंड जैसे ग्रंथों ने जहाँ हिंदी भाषा को बनाए रखने की प्रेरणा दी वहीं औपचारिक रूप से हिंदी पढ़ने-पढ़ाने के प्रति भी प्रबुद्ध-समुदाय का ध्यान खींचा। प्रायः सभी भारतीय पाठशालाओं में पढ़ाने का माध्यम हिंदी ही बनी और वर्षों पर्यंत चौथी कक्षा तक इन पाठशालाओं में हिंदी ही शिक्षण का माध्यम रही।
हिंदी की स्थापना में बहुत से लोगों ने हाथ दिया। कई पढ़े-लिखे हिंदी-प्रेमी अपनी रचनाएँ भी हिंदी में करने लगे और जैसे-तैसे उनके प्रकाशन की भी व्यवस्था होने लगी। स्वाभाविक ही था इस प्रवाह को सुनियोजित एवं व्यवस्थित करने के लिए तथा स्थानीय लोगों के उत्साहवर्धन के लिए हिंदी-प्रेस और हिंदी समाचार पत्रों को बढ़ावा दिया जाए। जागृति, फीजी समाचार, शांतिदूत, प्रशांत समाचार सामने आए। इन समाचार पत्रों के सहारे फुटकर पत्र-पत्रिकाएँ भी प्रकाशित होने लगीं।
फीजी में जब 1879-1920 तक भारतवर्ष से गन्ने के खेतों तथा चीनी मिलों में काम करने के लिए भारतीय श्रमिक लाए जाते रहे तो वे साधारण जन अपने साथ अपनी भाषा, संस्कृति एवं धर्म लाए। फीजी के लिए श्रमिकों को भारत के विभिन्न प्रांतों से लाकर कलकत्ता से पानी के जहाज़ों द्वारा फीजी लाया जाता रहा। कलकत्ता से आख़िरी बार अपनी मातृभूमि से विदा होने के कारण इन बिछुड़े हुए लोगों को कलकतिया और एक ही जहाज़ में सभी को एक साथ सफ़र करने के कारण जहाजी भाई कहा जाने लगा। कलकतिया एवं जहाजी भाई शब्दों ने फीजी में आए प्रवासी भारतीयों को आत्मीयता के बंधन में बाँध कर और भी क़रीब ला दिया। इनमें से अधिकांश लोग हिंदी बोलते थे, कुछ लोग लिखते-पढ़ते भी रहे इसलिए हिंदी ही प्रवासी भारतीयों की संपर्क भाषा बनी। फीजी में हिंदी के इस उद्भव काल को गिरमिट काल कहना ज़्यादा समीचीन होगा। यह काल हमारे पूज्य पूर्वजों के लिए उत्पीड़न, शोषण एवं निराशा का काल था। इन्हें इंसान कम, पशु अथवा गुलामों से भी गिरे हुए रूप में औपनिवेशिक मालिकों ने देखा। उनका व्यवहार भी अधिकांशतः अमानुषिक, क्रूर, अत्याचार तथा अन्यायपूर्ण था। तब हिंदी पढ़ना-पढ़ाना बिल्कुल कानून विरोधी माना जाता था। फिर भी अपने को राम जी जैसे वनवासी मानते हुए धर्म की भावना से ओतप्रोत भारतीयों ने अपनी भाषा की ज्योति जलाए रखने का दृढ़ संकल्प लिया। इस बीच दीनबंधु-सी एफ एंडÜस जैसे अच्छे अंग्रेज़ पादरी भी इस देश में आए और प्रवासी भारतीयों के प्रति गहन संवेदना एवं सहिष्णुता का व्यवहार किया। शिक्षा के क्षेत्र में विशेष बल दिया जाने लगा और लोगों ने तुलसी की रामायण को अपने दामन से बाँधे रखा। जिन लोगों को हनुमान चालीसा, रामायण की चौपाई, कबीर के दोहे याद रहे, साथ ही पूजा-पाठ के कुछ मंत्र, संस्कृत के कुछ श्लोक, ग्राम्य जीवन की कुछ कहावतें, मुहावरे और लोकोक्तियाँ याद रहीं, कबीर, सूर, मीरा, रैदास और तुलसी के भजन-कीर्तन याद रहे और महिलाओं को जो लोक-गीत याद थे उन सभी का इस काल में भरपूर प्रयोग किया गया। दिन भर के कठिन परिश्रम के बाद शाम को अथवा रविवार की छुट्टी के दिन इन्हें जब भी कुछ समय मिलता एकत्रित होकर अपने उक्त ज्ञान एवं स्मृतियों को एक दूसरे को परस्पर सुनते-सुनाते।
अपने इस विकास काल में हिंदी लगभग पूर्णरूप से प्रवासी भारतीयों की संपर्क भाषा का स्थान ले चुकी थी। औपनिवेशिक अधिकारियों एवं कर्मचारियों को भी भारतीयों को समझने और समझाने के लिए उनकी भाषा सीखनी पडी। यहाँ तक कि बहुत से आदिम निवासी भी कुछ-कुछ हिंदी बोलने और समझने लगे। कालांतर में हिंदुस्तानियों का संपर्क फीजी वासियों और अंग्रेजों से अधिक बढ़ जाने के कारण उनकी भाषाओं के शब्द प्रचुर मात्रा में हिंदी में प्रविष्ट हुए। हिंदी के शब्द समूह में बहुत-से देशज शब्द भी प्रविष्ट हुए। गिरमिट, फुलावा, कंटाप, दरेसी, कम्यर, बेलो जैसे शब्द फीजी में ही पैदा होकर हिंदी में समाहित हो गए।

NEWSFLASH

हिंदी के प्रचार-प्रसार का स्वयंसेवी मिशन। "गर्भनाल" का वितरण निःशुल्क किया जाता है। अनेक मददगारों की तरह आप भी इसे सहयोग करे।

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal | Yellow Loop | SysNano Infotech | Structured Data Test ^