btn_subscribeCC_LG.gif
डॉ. तोमोको किकुचि
डॉ. तोमोको किकुचि
जापान के पूर्वोत्तर क्षेत्र फुकुशिमा में जन्म। तोक्यो में दो साल हिन्दी भाषा सीखने के बाद 1992 में भारत आर्इं। केन्द्रीय हिन्दी संस्थान आगरा, महारानी कॉलेज राजस्थान वि·ाविद्यालय, जयपुर में बी.ए. (हिन्दी, समाजशास्त्र, शास्त्रीय संगीत सितार), जवाहरलाल नेहरू वि·ाविद्यालय में हिन्दी में एम.ए. से पीएच.डी. तक की शिक्षा पूरी की। "महादेवी वर्मा की वि·ादृष्टि', "हिरोशिमा का दर्द', जापानी एनीमेशन फिल्म "सारस पर चढ़ कर', जापानी कॉमिक "नीरव संध्या का शहर, साकुरा का देश', "अंगुलियों का ऑर्केस्ट्रा' तथा जापानी कवियित्री कानेको मिसुजु की जीवनी और कविताओं की हिन्दी अनुवाद पुस्तकें प्रकाशित। 9वें वि·ा हिन्दी सम्मेलन में सम्मानित । सम्प्रति - हिन्दी और जापानी में लेखन और अनुवाद तथा हरियाणा में निवास।

मॉल-संस्कृति को देखने  भारत नहीं आऊँगी
डॉ योको तावादा जयपुर साहित्य सम्मेलन में भाग  लेने ले लिए भारत आर्इं। वे उस सम्मलेन में भाग लेने वाला पहली जापानी साहित्यकार हैं। आपका जन्म जापान के तोक्यो में हुआ और वे 1982 से जर्मनी में रहती हैं। डॉ. तावादा जापानी और जर्मन दोनों भाषाओं में
जापान में प्रवासी भारतीय
दिसंबर 2014 के आंकड़े के अनुसार जापान में 24 हजार 524 प्रवासी भारतीय रहते हैं। 2005 में जापान में प्रवासी विदेशियों की संख्या जापान की जनसंख्या का 1.6 प्र.श. था। उसमें भारतीयों की संख्या 16 हजार 988 थी। यह जापान में प्रवासी विदेशियों का मात्र 0.8 प
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^