ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
डॉ. संध्या सिंह
डॉ. संध्या सिंह
हिन्दी साहित्य से एम.ए. और बी.एड.। सिंगापुर में हिन्दी सोसाइटी के मार्फत स्वयंसेवक के रूप में उच्च माध्यमिक कक्षाओं में पढ़ाया। विगत 14 वर्षों से सिंगापुर में हिन्दी प्रचार-प्रसार में सक्रिय भूमिका। सिंगापुर की एन.पी.एस. अन्तर्राष्ट्रीय पाठशाला में हिन्दी विभागाध्यक्ष एवं एन.यू.एस. में हिन्दी व्याख्याता के तौर पर काम किया। विभिन्न पत्रिकाओं में आलेखों का प्रकाशन।

मौके मिल ही जाते हैं
समय कब पंख लगाकर उड़ जाता है, पता भी नहीं चलता। धीरे-धीरे कब एक चुलबुली लड़की से प्रौढ़ा की ओर कदम बढ़ चले अहसास ही नहीं हुआ। आज अतीत में झाँकने पर कितनी बातें परत-दर-परत खुलती चली जाती हैं। एक भोली-सी उन
सिंगापुर के भारतवंशी
वाणिज्यिक मार्ग के संगम पर बसा सिंगापुर मलाया द्वीप समूह को नापता हुआ भिन्न मूल के लोगों के प्रवाह का गवाह रहा है। सिंगापुर में भारतीय समुदाय की गितनी तो उँगलियों पर ही है पर देश के विकास में छाप उल्ल
सर्वज्ञता की खोज का मिशन
आज़ादी के सही मायने आखिर हैं क्या? क्या सिर्फ नारे लगाने की छूट या बस अपने मन का करने की छूट को ही आज हम आज़ादी से जोड़ते हैं? क्या आजादी का सही अर्थ यह नहीं होना चाहिए कि आप अपने देश या इस यूनिवर्स के ल
मज़दूर दिवस बनाम प्रवासी मज़दूर
प्रवासी ¶ाब्द बड़ा मनमोहक है। सुनकर लगता है जैसे एक बड़ा तगमा जुड़ गया हो। सिंगापुर में भी प्रवासियों की कमी नहीं। हर दे¶ा की तरह यहाँ भी कुछ प्रवासी सुनहरे सपने पूरे कर रहे हैं तो कुछ सुनहरे स

म.प्र. के मुख्यमंत्री की गौरवपूर्ण उपलब्धि
किसी भी भारतीय के लिए यह गर्व की बात होगी कि उसके देश के एक मुख्यमंत्री को अच्छी सरकार, विकास और उपलब्धियों के लिए सिंगापुर की तरफ से "ली क्वान यूू फेलोशिप' प्रदान की जाये। यह सौभाग्य मिला है मध्यप्रद
कारोबार में सिंगापुर तो है सदाबहार
विविधता और बहुसांस्कृतिक सुन्दरता सिंगापुर को अपने व्यापार-स्थल के रूप में चुनने के कई कारणों में से एक है। यहाँ के व्यापारिक माहौल और निम्न कर दर की वजह से लोग अपने कारोबार का फैलाव करते यहीं जम जाते
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 12.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^