ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
दिलेर दिओल आशना
दिलेर दिओल आशना
दिल्ली विश्वविद्यालय में एक दशक से ज्यादा राजनीति की प्राध्यापक रहीं। इस दौरान राजनीति की तीन पुस्तकें प्रकाशित। हिंदी साहित्य में विशेष रुचि। काव्य संग्रह "रूबरू" प्रकाशित। रूमी और टैगोर की चुनिंदा कविताओं का हिंदी रूपांतर "तू ही तूू" प्रकाशित। सांस्कृतिक-साहित्यिक गतिविधियों में सक्रिय भागीदारी। सम्प्रति - मेरीलैंड में रहती हैं।

बचपन के दोस्त
पर्वत की चोटी से जब बर्फ पिघलने लगती है भूली भटकी नन्ही चिड़िया जब दाना चुगने लगती है तितली मंडराते देख जब कलियाँ शर्माने लगती हैंओस दमकती फूलों परजब पंछी गाना गाते हैंबचपन के दिन सताते हैं तब द
चिड़ियाँ
पौ फटते मुंडेर पर बैठीं चहक जगातीं नींद से चिड़ियाँभोली भाली छल कपट से दूर मासूम मतवाली चिड़ियाँकहाँ उड़ गईं कौन से देस पधारीं सुंदर चितचोर चिड़ियाँसूना सूना घर का आँगन बिना चहकती नन्ही चिड़ियाँ।चिड़ी चोंच भर ले गई अब कैसे
रंग मंच
जरस बज रहा हैगुंबद ऊंचाई का प्रतीकआधार स्तम्भबाहुबलि भुजाएँकमल मकरंद से सुरभितमूर्तिमान देवतावैभव के रसिया पुजारीरूप के दीवाने पुरोहितहवाओं पे तैरती तहरीरजननी की अजमतआदरणीय ना
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^