ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
दास कबीर जतन ते ओढ़ी
01-Jun-2016 12:00 AM 2962     

कबीर ने मानव देह का झीनी चादर का प्रतीक लेकर एक अति स¶ाक्त साँग-रूपक रचा है जिसके अंत में वे अन्यों और स्वयं के बारे में जो धाकड़ घोषणा करते हैं वह गर्वोक्ति नहीं, एक सिर चढ़कर बोलने वाला सच है। वे कहते हैं- सो चादर सुर-नर-मुनि ओढ़ी, ओढ़के मैली कीन्ही चदरिया। दास कबीर जतन तें ओढ़ी, ज्यों की त्यों धर दीनी चदरिया।
ऐसा वही कह सकता है जिसने मन-वाणी और कर्म से निष्पाप और बेदाग़ जीवन जिया हो। वही कह सकता है- ज्यों का¶ाी त्यों ऊसर मगहर राम बसे हिय मोरा। जो कबीर का¶ाी मरे तो रामहिं कौन निहोरा। का¶ाी में मर कर तो कोई भी मुक्ति पा सकता है फिर कबीर के कर्मों की क्या वि¶ोषता? यदि कर्मों में ¶ाक्ति है और मन में राम बसा है तो मगहर में मुक्ति को कोई नहीं रोक सकता।
हमारे एक मित्र सारे जीवन कम्यूनिज्म की चादर ओढ़े रहे और इसका उस ग्रुप वि¶ोष में लाभ भी कमाया। कुछ दिनों पहले उनकी खबर आई कि गंगा के किनारे विष्णु सहरुानाम का जाप कर रहे हैं। अब वे आस्तिक हो गये हैं।
अधिकतर लोग ई·ार और उसके न्याय में वि·ाास नहीं करते बल्कि वे भौतिक लाभ पाने के लिए धर्म का दिखावा करते हैं और यदि ऊपर ई·ार हुआ तो ¶ाायद उसके दंड से बचने का कोई रास्ता निकल आए। वे मिठाई, झंडे, माला बेचकर लाभ कमाने के लिए मंदिर खोलते हैं। आज के अरबपति बने तथाकथित संतों को भगवान से अधिक वि·ाास च्यवनप्रा¶ा बेचने और नेताओं के साथ फोटो खिंचवाने में है।
कबीर किसी के चढ़ावे, चंदे की बजाय अपना दिन भर खटकर बनाया कपड़ा बेचकर ¶ााम को साखी कहते हैं। साखी मतलब अपना अनुभूत सच।
आज के अधिकां¶ा धार्मिक चैनलों पर ब्यूटी पार्लरों में प्रसाधित होकर निकले च्यवनप्रा¶ा-विक्रेता संत लटके-झटके से ऊँची-ऊँची बातें करते हैं जिनका अर्थ खुद उन्हीं को नहीं पता। बेचारे श्रोता ¶ाब्दों और नरक से डरकर मुंडी हिलाते रहते हैं। अरे, बेचारे भोले-भाले लोगों को कोई ऐसा रास्ता बताओ जिससे वे एक मानवीय गरिमा युक्त जीवन जी सकें। ये लोग तो बेचारे पहले से मेहनत का ईमानदारी पूर्ण जीवन जी रहे हैं।
आडम्बरी भक्तों को भेड़, मुल्ला को बाँग देने वाला और मूर्ति को पत्थर कह सकने का साहस रखने वाला किसका प्रिय हो सकता है? उसे तो मुल्लाओं और पंडितों दोनों से खतरा रहता है। यह ऐतिहासिक सत्य है कि कई बार कबीर की हत्या करने की को¶िा¶ा की गई। यह तो उनके सच्ची श्रद्धा रखने वाले भक्तों की सावधानी और एकता से संभव हुआ कि वे बच गए। ध्यान रहे का¶ाी में तर माल खाने वाले हिन्दू पंडों और का¶ाी वि·ानाथ के बगल में मस्जिद ठोंक सकने वाले मुल्लाओं का बाहुबल और धनबल उस समय कितना रहा होगा? तभी कबीर कहते हैं-
साधो देखो जग बौराना
साँच कहूँ तो मारन धावै झूठे जग पतियाना।
तभी वे इस मानव प्रेम के मार्ग के लिए कहते हैं-
कबीर यह घर प्रेम का खाला का घर नाहिं
सीस उतारे भुइं धरे सो पैठे घर माँहि।
कबीर मानव-प्रेम के लिए सिर हथेली पर रखकर चलने वाले एक अप्रतिम और दुर्धर्ष योद्धा थे। उनकी जोड़ का कोई दूसरा व्यक्ति नज़र नहीं आता।
कबीर ने अपनी समाज-सुधार, सरल और आडम्बरहीन जीवन की अधिकतर बातें साखियों (दोहों) में कही हैं। प्रसिद्ध समालोचक और हिंदी साहित्य के इतिहासकार पंडित रामचंद्र ¶ाुक्ल उनकी साखियों में कवित्व मानते ही नहीं। हाँ, वे उनके पदों में अव¶य कवित्व पाते हैं, लेकिन कबीर कभी कवि कहलाने के लिए थोड़े ही कह रहे थे। वे तो समाज और मानव की असाध्य बीमारियों का इलाज़ करने के लिए उसकी ¶ाल्य चिकित्सा कर रहे थे। और चिकित्सक मरीज़ के अनुसार नहीं बल्कि उसके हित के अनुसार सोच रहे थे।
कबीर की मज़बूरी थी जन कल्याण के लिए कटु और कठोर होना। डाइबिटीज का इलाज़ करेले, गिलोय और कुटकी-चिरायते से होता है, रसगुल्लों से नहीं।
कबीर को हर समय कटु नहीं रहे। वे ई·ार को समर्पित एक अत्यंत विनम्र और भावुक व्यक्ति भी हैं। अपने एकांत में वे "राम की बहुरिया' हैं, "राम की मुतिया नाम की कुतिया' हैं जो राम की जेवड़ी से बँधी है। ¶ाायद बड़े से बड़े विनम्र भक्त ने भी खुद को राम की कुतिया नहीं कहा होगा। हाँ, आज जन सेवक लाभ के लिए किसी भी लम्पट को दे¶ा का बाप कहकर और खुद अपने गले में उसका पट्टा डालकर कुत्ते बने घूमते हैं।
कबीर के बहुत से समकालीन निर्गुण (ज्ञानाश्रयी) कवि हुए हैं जिनमें से अधिकतर गुरु ग्रन्थ साहब में संकलित हैं लेकिन उनमें कबीर की तरह दबंगई दिखाई नहीं देती। मन चंगा तो कठौती में गंगा या संतन को सीकरी सों का काम कहने वाले संत निःसंदेह श्रेष्ठ हैं लेकिन कबीर की अपनी निराली ही धज है।
भारत की संस्कृति समावे¶ाी है। सभी समाजों के लोग समावे¶ाी और ¶ाांति-प्रिय होते हैं। उन्हें तो स्वार्थी राजनीति लड़ाती है। भारत में धर्म का धंधा करने वालों की एक वि¶ोषता है जो संसार में कहीं नहीं मिलेगी। वह है- किसी भी क्रान्तिकारी विचारों वाले व्यक्ति के विचारों पर आचरण करने की बजाय उसकी मूर्तियाँ बना कर उसे मनुष्य समाज से अलग किसी अलौकिक दुनिया का एक व्यक्तित्त्व बना दो। फिर लोग उससे मन्नतें माँगेंगे और उसके अनुसार आचरण करना भूल जाएँगे। इस दे¶ा के धर्म के व्यापारियों ने बुद्ध, महावीर, रैदास, दयानंद सरस्वती, गाँधी, पटेल, अम्बेडकर सभी के साथ यही किया है।
कबीर की भी इसी प्रकार की विचार-हत्या के मेरे देखे अनेक अनुभव हैं। 1986 में किसी सेमीनार में बनारस जाना हुआ तो कबीर के स्थल को देखे बिना रहने का प्र¶न ही नहीं था। अन्दर जाकर सब कुछ देखने के बाद जब बाहर निकलने लगे तो मुख्य द्वार में बने एक कमरे में एक सज्जन बैठे थे। उन्होंने एक माला और पादुका के कबीर जी की होने का दावा किया। उन्हें हमारे सिर से छुआया और फिर दक्षिणा की माँग की। हमने कहा- रुपए भले ही दो की बजाय तीन ले लो लेकिन "कर का मनका डाल कर मन का मनका फेरने का सन्दे¶ा देने वाले' कबीर की माला के नाम पर उसके साथ यह अन्याय तो मत करो।
इसी तरह हमारे गाँव में "कबीर का टीला' नाम से एक स्थान है, जहाँ तीन सौ वर्ष पुरानी कबीर की रचनाओं की हस्तलिखित प्रति होने का ज़िक्र पर¶ाुराम चतुर्वेदी जी ने अपनी पुस्तक "कबीर साहित्य की परख' में किया है। वहाँ हनुमानदास नाम के एक सज्जन स्थापित थे और वे कई बीमारियों का झाड़-फूँक से इलाज़ किया करते थे। यह जानकर कबीर पर क्या बीत रही होगी।
आज हम कबीर की प्र¶ांसा में कहते हैं कि छह सौ वर्ष बाद भी कबीर प्रासंगिक है। मतलब न्याय, मानवता, विकास, लोकतंत्र आदि के नाम पर जो कुछ किया वह नाटक था? क्या अब तक हम अपने को और दुनिया को धोखा देते रहे? सही दि¶ाा में, कबीर के लोकहितकारी विचारों के अनुसार कुछ भी नहीं किया? कबीर को कौन सी अपनी रचनाओं की रायल्टी चाहिए थी जो वह अनंत काल तक अपनी रचनाओं की प्रासंगिकता की कामना करता। वह तो चाहता था कि यह कूड़ा किसी तरह साफ हो तो भले और बेचारे आदमी का जीवन जीने लायक बने।
कबीर के साथ हम भी उनके अप्रासंगिक होने की कामना करते हैं।
 धर्म या दे¶ा के नाम पर लड़े गए धर्म युद्ध, जिहाद, यहूदियों का कत्लेआम, कालों से भेदभाव, वि·ाास वि¶ोष के लोगों की हत्या, मुसलमानों को दे¶ा से भगाने का फतवा, जन्नत के राष्ट्रपति पद के प्रत्या¶ाी द्वारा मुसलमानों का प्रवे¶ा वर्जित करने की बात किस ओर जाती दुनिया के संकेत हैं? भारत, अमरीका, अफ्रीका और मध्य ए¶िाया सबको कबीर की ज़रूरत है लेकिन कबीर दूसरों की चादर गन्दी करने और सिर्फ अपनी जान बचाते रहने की फ़िक्र से नहीं बल्कि "चादर को जतन से ओढ़ने' और "अपना सिर खुद उतारकर धरती पर रखने से' संभव है।

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^