ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
चीनी कवि तियांहे की कविताएँ अनुवाद : साधना अग्रवाल
01-Apr-2019 09:50 PM 540     

तियांहे
चीन के समकालीन कवियों में वे महत्वपूर्ण हस्ताक्षर माने जाते है। उनका जन्म हुबेई के ग्रामीण इलाके में हुआ। आपने 1982 से गांव को केन्द्र में रखकर कविता लिखना आरंभ किया। उनके 14 कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं, जिनमें "द विंड माउथ", "कॉलिंग माई होम", "आन द वे होम" आदि प्रमुख हैं। चीन के सर्वोच्च पुरस्कार सहित 30 से अधिक सम्मानों से पुरस्कृत। 10 से अधिक भाषाओं में कविताओं का अनुवाद प्रकाशित।


जियांगनान रेशम

मेरा शहर इरेवियर
वैसे ही प्यार करता हूं उसे
जैसे जियांगनान रेशम के टुकड़े को
जियांगनान रेशम, नदियों में पानी की तरह है
दूषित हुए बिना
मेरा घर रेशम का एक नाज़ुक टुकड़ा है
और उसमें मेरा पुराना दोस्त चियांगसम है
एक हवा को मैं देखता, फहराता
तब आप उसे एक हड्डी के ब्रोच के साथ
चिपकाते हैं वहां
यह अब भी एक जगह बना हुआ है।


बहता पानी

जियांगनान में पानी है बहुत
और यह शहर है पानी का
यह लाखों साल पहले भी
और लाखों साल बाद भी
बहता है एक ही दिशा की ओर
यह पानी, पहाड़ों से, घाटियों से
उस साल बादलों, झरनों और सोतों से
गया मैं देखने जड़ी-बूटियों को पहाड़ों में
अपने छोटे काले कुत्ते के साथ
वहां, मैं पीछा कर रहा था एक क्रीक का
यह नीचे ढलानों पर फैल गया
यह लोगों के बीच बहता हुआ
गांव के सूखे तालाबों पर
फिर बीन के खेतों से होता हुआ
अचानक, एक खाद्य तेल का कोना बन गया
और फिर एक उर्वर खेत और पगडंडियों के रास्ते
मुझे एक जंगली फूल मिल गया
और शरद ऋतु में लबालब
एक अथाह नदी का
बैरल या टैंक द्वारा कुछ पानी निकाला गया है
कुछ किसान खेतों की सिंचाई के लिए पानी ले रहे हैं
लेकिन पानी, अभी भी लगातार धीरे-धीरे बह रहा है
वे यात्रा कर रहे हैं, जैसे घर लौट रहे हैं।


मिटृी का एक बर्तन

अभी-अभी नया, भट्टे से निकला
जलने के बाद हो गया है काला
यही उसकी सुंदरता है
मेरी चाची इस्तेमाल करती हैं उसका
आलू, स्ट्यू मांस और नमक रखने के लिए
यह बहुत सहज है
बिल्कुल मेरे चाचा की तरह
जो हमेशा चाची के पीछे रहते हैं।
मिट्टी का बर्तन

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 15.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^