ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
बहरीन में वर्षा
01-Jul-2016 12:00 AM 2379     

बहरीन का अरबी नाम है- मुम्लिकत अल-बहरईन। इसकी राजधानी है मनामा। ये अरब जगत का एक हिस्सा है जो एक द्वीप पर बसा हुआ है। बहरीन 1971 में स्वतंत्र हुआ और संवैधानिक राजतंत्र की स्थापना हुई, जिसका प्रमुख अमीर होता है। 1975 में यहां की नेशानल असेंबली भंग हुई, जो अब तक बहाल नहीं हो पाई है। 1990 में कुवैत पर इराक के आक्रमण के बाद बहरीन ने संयुक्त राष्ट्रसंघ की सदस्यता ग्रहण की।
बहरीन में वर्षा का आगमन केवल सर्दियों के दिनों में होता है। कड़ाके की सर्दी के समय वर्षा शाीतकाल को चार चाँद लगा देती है। सब लोग इन दिनों गर्म कपड़ों से स्वयं को सुरक्षित करके वर्षा व सर्दी का सामना बहुत ही धैर्य से करते हैं। वर्षा का पानी सड़कों पर कभी-कभी भरने के कारण पानी खींचने के लिए ट्रकों की व्यवस्था की जाती है, क्योंकि अधिक वर्षा न होने के कारण  पानी के सड़कों से निकलने की व्यवस्था ठीक रूप से नहीं है। किंतु देखते ही देखते ये ट्रक जल्द से जल्द पाईपों द्वारा पानी को स्वयं में खींचकर रहने वाले नागरिकों को सुरक्षा प्रदान करते हैं।
यहाँ मूसलाधार वर्षा नहीं होती। कभी-कभी तेज़ वर्षा दिन रात होती है। यहाँ सब वर्षा का बेताबी से इंतज़ार करते हैं। टिप-टिप वर्षा की बूँदें सबका मन मोह लेती हैं। यहाँ वर्षा अधिक दिनों तक नहीं होती किंतु जितनी होती है उसका यहाँ के लोग लुत्फ उठाने में पीछे नहीं रहते। कभी-कभी पूरी रात वर्षा होती है अतः सुबह का दृशय सुहाना लगता है।   
बहरीन के स्थानीय निवासी अधिकतर शाांतप्रिय व सभ्य व्यवहार वाले हैं। किसी भी सरकारी व गैर सरकारी कार्यालय अथवा बाज़ार में सभी बहरीनी मधुर स्वर में बात करते हैं। कुछ बहरीनी हिंदी बोलना व समझना भी जानते हैं। पढ़े-लिखों के साथ अंग्रेजी में वार्तालाप संभव है। ये अपनी वेशाभूषा का विशोष ध्यान रखते हैं। मुख्यतः युवा वर्ग चाहे लड़के हों या लड़कियाँ अपनी वेशाभूषा पर दिल खोलकर व्यय करते हैं। यहाँ बसें व टैक्सियाँ हर समय सड़कों पर दौड़ती नज़र आती हैं। सरकारी व गैर सरकारी अस्पतालों में दिन-रात सेवा उपलब्ध है। अक्सर सभी कारें चलाते हैं। इन्हें राजसी रहन-सहन पसंद है, किंतु मध्यमवर्गीय निवासी भी देखने को  मिलते हैं। चिंतापरक स्थिति यह है कि ये अधिकतर मज़दूरी करना पसंद नहीं करते। अब युवा वर्ग शिाक्षित होने के कारण परिवर्तन आना संभाव्य है। यहाँ के निवासी सभ्य व सुशाील हैं। कुल मिलाकर यहाँ पर भारतीयों व अन्य देशावासियों की स्थिति संतोषजनक एवं सुरक्षित है। यहाँ की पुलिस सुरक्षा हेतु सदैव तत्पर है।
ईद के दिनों का नज़ारा तो देखने योग्य होता है। सब जगह चहल-पहल व सजावट दिखती है। बहुत सी वस्तुओं पर छूट का लाभ सब जन उठाने में पीछे नहीं रहते। राष्ट्र दिवस वाले दिन तो संपूर्ण द्वीप विद्युत से नहाया अपनी छटा बिखेरता है। हवाई अड्डे पर बहुत सी सुविधाएँ उपलब्ध हैं। वहाँ लोग  हिंदी का प्रयोग भी करते हुए देखे जा सकते हैं। यहाँ का वातावरण सभी के अनुकूल है। बहरीन में हम लोग 2005 में आए थे। लगता ही नहीं कि इतना समय इतने सुकून से कैसे बीत रहा है? सचमुच यहाँ रहना आनंदित प्रतीत होता है।  

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 15.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^