ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
बातचीत Next
बर्लिन में भारतीय राजदूत श्री गुरजीत सिंह से शिक्षाविद् डॉ. राम प्रसाद भट्ट की बातचीत
बर्लिन में भारतीय राजदूत श्री गुरजीत सिंह से शिक्षाविद् डॉ. राम प्रसाद भट्ट की बातचीत

बर्लिन में भारत के राजदूत श्री गुरजीत सिंह 1980 से भारतीय विदेश विभाग में कार्यरत हैं। आपने मेयो कॉलेज अजमेर, ज़ेवियर कॉलेज, कोलकत्ता और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली से शिक्षा प्राप्त की। जे ...

01-Mar-2017 09:03 PM 778
भारतवंशियों के दंश और पीड़ा को समझना होगा
भारतवंशियों के दंश और पीड़ा को समझना होगा

भारतवंशी संस्कृति की अध्येता साहित्यकार प्रो. डॉ. पुष्पिता अवस्थी से आत्माराम शर्मा की बातचीत

हिंदी यूनिवर्स फाउंडेशन, नीदरलैंड की अध्यक्ष एवं प्रख्यात साहित्यकार प्रो. डॉ. पुष्पिता अवस् ...

01-Nov-2016 12:00 AM 2496
प्रख्यात साहित्यकार डॉ. सुधाकर अदीब से राजू मिश्र की बातचीत
प्रख्यात साहित्यकार डॉ. सुधाकर अदीब से राजू मिश्र की बातचीत

किताब बचेगी तो ही भाषा बचेगी सुधाकर अदीब की पैदाइश उसी अयोध्या में है जहां मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम का जन्म हुआ। सरकारी चाकरी के बीच साहित्य सृजन बड़ी बात होती है, लेकिन उन्होंने समय निकालकर ...

01-Oct-2016 12:00 AM 2601
उर्दू साहित्यकार डॉ. वजाहत हुसैन रिजवी से प्रख्यात पत्रकार राजू मिश्र की बातचीत
उर्दू साहित्यकार डॉ. वजाहत हुसैन रिजवी से प्रख्यात पत्रकार राजू मिश्र की बातचीत

जहां लफ्जों के मोती, एहसास की डोर में गुंथ जाते हैं तो शायरी का रूप धर लेते हैं और जब बोलों की शक्ल-सूरत अख्तियार करते हैं तो वो कहानी बन जाती है। शब्दों को किसी माला की मोतियों की मानिन्द सजाने-सं ...

01-Sep-2016 12:00 AM 2812
बाबाओं के कुम्भ में एक जिज्ञासु
बाबाओं के कुम्भ में एक जिज्ञासु

सब कुछ अविस्मरणीय... अकल्पनीय... सपना सच होने जैसा। धर्मप्राण जनता-जनार्दन के अंत:करण में हिलोरे मारती आस्था और व्यवस्था के बीच अव्यवस्था का आनंद। संगम स्नान के तदंतर हर चेहरे पर खिली अजब सी मुस्का ...

01-Apr-2016 12:00 AM 559
निवेशक मित्र और विकास में सहभागी हैं
निवेशक  मित्र और विकास में सहभागी हैं

प्रश्न - मध्यप्रदेश में प्रवासी भारतीयों की पूंजी निवेश की आपकी महत्वाकांक्षी योजना में सिंगापुर यात्रा की उपलब्धि के बारे में क्या कहेंगे।
उत्तर - देखिये मैं सिंगापुर सरकार के नियंत्रण पर गया ...

01-Feb-2016 12:00 AM 412
मॉल-संस्कृति को देखने भारत नहीं आऊँगी
मॉल-संस्कृति को देखने  भारत नहीं आऊँगी

डॉ योको तावादा जयपुर साहित्य सम्मेलन में भाग  लेने ले लिए भारत आर्इं। वे उस सम्मलेन में भाग लेने वाला पहली जापानी साहित्यकार हैं। आपका जन्म जापान के तोक्यो में हुआ और वे 1982 से जर्मनी में रहत ...

01-Feb-2016 12:00 AM 412
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal | Yellow Loop | SysNano Infotech | Structured Data Test ^