ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
अनुराग शर्मा
अनुराग शर्मा
उत्तरप्रदेश में जन्म. विज्ञान में स्नातक तथा प्रबंधन में स्नातकोत्तर. इन्टरनेट रेडियो (PittRadio) चलाने के अलावा हिन्दयुग्म पर प्रसारित स्वर-आकर्षण "सुनो कहानी" का संचालन. कविता, कहानी, लेख आदि विधाओं में सतत लेखन. पश्चिमी सभ्यता और संस्कृति पर सृजनगाथा में मासिक श्रृंखला एवं काव्य-संग्रह "पतझड़ सावन वसंत बहार" प्रकाशित. Friends of Tibet(भारत) और United Way(संयुक्त राज्य अमेरिका) जैसे समाजसेवी संगठनों से जुड़े रहे हैं. संप्रति - अमेरिका में एक स्वास्थ्य संस्था में एॅप्लिकेशन आकिर्टेक्ट हैं और पिटसबर्ग में रहते हैं.

हिंदी बीमार चल रही है
हिंदी बीमार है। उसे एक सरल रोग नहीं बल्कि कई जटिल रोग हैं, और उसके तीमारदार हर तरह से बेकार हैं। इससे भी बड़ी समस्या यह है कि उन तीमारदारों की दृष्टि इतनी सीमित है कि वे किसी सक्षम सेवक को पहचानते भी न
नागोबा डुलाय लागला...
बिल्कुल वही है। खाल के ऊपर रेंगता है। वही है। मैं भी तो वही हूँ। बैठा भी वहीं हूँ आज तक। तुम जबसे गयीं, निपट अकेला हूँ। वही शनिवार, वही तीसरा पहर, वही अड्डा, वही बेंच। वही आवाज़ें : तिकीट, तिकीट, तिकीट
प्रवासी दिवस  औचित्य और उद्देश्य
भारत के विकास के लिए प्रवासी भारतीय समुदाय के योगदान को चिन्हित करने के लिए प्रतिवर्ष मनाया जाने वाला प्रवासी भारतीय दिवस एक अच्छा प्रयास सिद्ध हो सकता है। महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका से भारत वापस
स्वतंत्रता और अनुशासन
संसार के किसी विकसित देश से तुलना की जाये तो एक आम भारतीय कहीं अधिक आज़ाद है। चलती बसों में चढ़ने-उतरने से लेकर कहीं भी कचरा फैलाने, थूकने से लेकर नित्यक्रिया तक के लिये कहीं भी बैठ जाना सामान्य-सी बात
QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 11.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^