ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
आवरण Next

पत्रकारिता में इतिहास बोध और राजेन्द्र माथुर
01-Apr-2017 11:58 PM 584
पत्रकारिता में इतिहास बोध और राजेन्द्र माथुर

अतीत की बुनियाद पर हमेशा भविष्य की इमारत खड़ी होती है। जब तक इतिहास की ईंटें मज़बूत रहती हैं, हर सभ्यता फलती-फूलती और जवान होती है। लेकिन जैसे ही ईंटें खिसकने लगतीं हैं, इमारत कमज़ोर होती जाती है। शिल

हिंदी पत्रकारिता का वैचारिक संकट
01-Apr-2017 11:48 PM 552
हिंदी पत्रकारिता का वैचारिक संकट

पत्रकार शिरोमणि बाबूराव विष्णु पराड़कर ने लगभग एक शताब्दी साल पहले हिंदी संपादक सम्मेलन में कहा था, "पत्र निकालकर सफलतापूर्वक चलाना बड़े-बड़े धनिकों तथा सुसंगठित कंपनियों के लिए संभव होगा। पत्र सर्वां

हिंदी की नामी पत्रिकाएँ
01-Apr-2017 12:02 AM 437
हिंदी की नामी पत्रिकाएँ

जब मैंने सुचित्रा-माधुरी का समारंभ किया तो मेरे सामने एक स्पष्ट नज़रिया था। मैं एक ऐसे संस्थान के लिए पत्रिका का आरंभ करने वाला था, जो पहले से ही अंगरेजी की लोकप्रिय पत्रिका फ़िल्मफ़ेअर का प्रकाशन कर


दूर-देशों के भारतवंंशी गिरमिटिया
01-Nov-2016 12:00 AM 2283
दूर-देशों के भारतवंंशी गिरमिटिया

यह मानव का नैसर्गिक स्वभाव है कि वह जोखिम भरे कामों को आगे बढ़कर उत्साहपूर्वक करता है। जब मानव को समुद्री मार्गों से यात्रा करना सुरक्षित लगने लगा, तब इंग्लैंड, पुर्तगाल, स्पेन और फ्रांस के विस्तारव

फ़ीजी के भारतवंशी
01-Nov-2016 12:00 AM 2315
फ़ीजी के भारतवंशी

प्रथम प्रवासी भारतीय श्रमिक के फीजी में अपना पग रखते ही हिंदी का प्रवेश यहाँ हो गया था। क्योंकि अधिकांश श्रमिक भारतवर्ष के हिंदी भाषी प्रदेशों से यहाँ आए थे अतः यहाँ उन्हीं की ही भाषा स्थापित हुई औ

अस्मिता के संघर्षशील सिपाही
01-Nov-2016 12:00 AM 2269
अस्मिता के संघर्षशील सिपाही

सन् 1498 में 31 जुलाई की दोपहर समुद्र में अपनी यात्रा के दौरान किसी जमीन की तलाश में हताश कोलंबस को जब उसके एक नाविक ने जहाज की छत से देखकर बताया कि पश्चिम की ओर तीन पहाड़ियां दिखाई दे रही हैं तो को


सूरीनाम की धरती पर धड़कता भारत
01-Nov-2016 12:00 AM 2314
सूरीनाम की धरती पर धड़कता भारत

खिचड़ी दाढ़ी, दो सितारा आँखों से फिसलती हुई दबी हँसी से सनी आवाज आई "मैं अंदर आ जाऊँ गुरु जी?" कहते हुए 20 साल का युवक दक्षिण अमेरिका के सूरीनाम देश के पारामारिबो शहर के भारतीय सांस्कृतिक केंद्र के ह

आजादी क्यों?
01-Aug-2016 12:00 AM 488
आजादी क्यों?

अजादी क्यों? सवाल बड़ा अजीब लगेगा क्योंकि प्रश्न तो यह होना चाहिये कि आजादी क्यों नहीं? पर अंग्रेजों ने 19वीं शताब्दी के अंत तक पूरे विश्व में यह बात सब के दिल-दिमाग में भर दी थी कि भारत सहित सभी का

आज़ादी के विरोधाभाष
01-Aug-2016 12:00 AM 480
आज़ादी के विरोधाभाष

आज़ादी एक बहुआयामी शब्द है। मूलतः यह राजनैतिक, सामाजिक, आर्थिक, वैचारिक, धार्मिक हो सकती है। किसी भी देश और सभ्यता की दीर्घकालिक उन्नति एवं सम्पन्नता के लिए यह आवश्यक है कि उसका पूर्णतः आज़ाद अस्तित्


स्वतंत्रता और अनुशासन
01-Aug-2016 12:00 AM 477
स्वतंत्रता और अनुशासन

संसार के किसी विकसित देश से तुलना की जाये तो एक आम भारतीय कहीं अधिक आज़ाद है। चलती बसों में चढ़ने-उतरने से लेकर कहीं भी कचरा फैलाने, थूकने से लेकर नित्यक्रिया तक के लिये कहीं भी बैठ जाना सामान्य-सी ब

स्वतंत्रता और प्रेम
01-Aug-2016 12:00 AM 470
स्वतंत्रता और प्रेम

प्रेम का जितना सघन संबंध प्रेम से है उससे कहीं अधिक विश्वास से है। विश्वास और आत्मीयता के अपरिहार्य आकर्षण से ही प्रेम की नींव पड़ती है। जिसे सौंदर्य और व्यक्तित्व के मानक अपनी तरह से रचते हैं। जिसम

लंदन में बरसात के दिन
01-Jul-2016 12:00 AM 1350
लंदन में बरसात के दिन

अक्सर कहा जाता है कि लंदन या ब्रिाटेन में वर्षाऋतु नहीं होती केवल बरसात का मौसम होता है। यहाँ जब लोग घर से निकलते हैं तो झोले में घर की चाबी, खाने का डिब्बा, ट्रेन में पढ़ने के लिए एक किताब के अलावा


इंग्लैंड की बरसातें
01-Jul-2016 12:00 AM 1363
इंग्लैंड की बरसातें

यह चुटकुला इंग्लैंड में बेहद प्रसिद्ध है कि "इंग्लैंड में बारि¶ा साल में सिर्फ दो बार होती है- जुलाई से मार्च तक और अप्रैल से जून तक।'
और यह ही क्यों इंग्लैंड में अधिकाँ¶ा चुटकुले मौ

ऑस्ट्रेलिया में बरखा
01-Jul-2016 12:00 AM 1352
ऑस्ट्रेलिया में बरखा

लोग मुझसे मौसम के बारे में कुछ भी पूछने से कतराते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि मैं मौसम- विभाग में काम करता हूँ उन्हें आँकड़े सुना-सुना कर हलकान कर दूंगा। आँकड़े सुनाना किसी हथियार-प्रयोग में शामिल नह

शिकागो में वर्षा-बहार
01-Jul-2016 12:00 AM 1357
शिकागो में वर्षा-बहार

अमेरिका में शिकागो को यूँ तो विंडी सिटी के रूप में जाना जाता है, पर यहां हर मौसम का अलग ही रोमांचक अनुभव है। शिकागो शहर की ठण्ड की तो जैसे बात करने की ज़रूरत ही नहीं। इतनी ठण्ड की इस समय कोई भी यहां


सिआटेल में उदासीन मन-मयूर
01-Jul-2016 12:00 AM 1354
सिआटेल में उदासीन मन-मयूर

सिआटेल आने के पहले इस नगर के सौन्दर्य के विषय में सुन रखा था। सिआटेल में पहुंचते ही यहाँ की हरीतिमा ने मुग्ध कर दिया। मेरी कल्पना से भी अधिक सुन्दर है यह नगर। ऐसा लगता है मानो विधाता ने हरे रंग की

नेपरविल में बरसात की छटायें
01-Jul-2016 12:00 AM 1331
नेपरविल में बरसात की छटायें

अमेरिका में बरसात की छटा बड़ी निराली होती है। प्रकृति की
बरसाती छटा और बसंती सौन्दर्य को देख कर प्राणी कुछ
पल के लिये जीवन की उलझनों को भूल जाता है।

बरसात का मौसम हर चर-अचर को

मेघों का घर नीदरलैंड
01-Jul-2016 12:00 AM 1353
मेघों का घर नीदरलैंड

नीदरलैंड में वर्षाऋतु आती नहीं है वह सर्वदा यहीं रहती है। हमेशाा आकाशा में बिना कोलाहल किए बादलों की क्रीड़ा होती रहती है। कभी उत्तरी क्षेत्र से ठंडी हवाओं के मेघों का दल घुमड़ते हुए आता है और ठंडी ब


लायडन में रिमझिम बरसात
01-Jul-2016 12:00 AM 1342
लायडन में रिमझिम बरसात

नीदरलैंड्स में पिछले छह दशाकों से मौसम में काफी परिवर्तन हुआ है। पहले यहां बसंत, हेमंत, शाीत और ग्रीष्म ऋतुएं निर्धारित निशिचत समय पर होती थीं। भारत की भांति यहां वर्षाऋतु निशिचत कभी नहीं रही है। क

ट्रिनिडाड की बरसात में देश की यादें
01-Jul-2016 12:00 AM 1337
ट्रिनिडाड की बरसात में देश की यादें

बरसात का मौसम हमेशाा ही मन में रोमांच पैदा करने वाला होता है। ट्रिनिडाड और टोबेगो में बरसात का मौसम जून से दिसम्बर तक छह महीनों का होता है। यहाँ पर बरसात अपने उत्तर भारत की तरह सिर्फ जुलाई से अगस्त

बहरीन में वर्षा
01-Jul-2016 12:00 AM 1339
बहरीन में वर्षा

बहरीन का अरबी नाम है- मुम्लिकत अल-बहरईन। इसकी राजधानी है मनामा। ये अरब जगत का एक हिस्सा है जो एक द्वीप पर बसा हुआ है। बहरीन 1971 में स्वतंत्र हुआ और संवैधानिक राजतंत्र की स्थापना हुई, जिसका प्रमुख


कबीर की उलटबांसी
01-Jun-2016 12:00 AM 1591
कबीर की उलटबांसी

मसि कागज छूवो नहीं, कलम गही नहिं हाथ, के बावजूद कबीरदास का नाम हिंदी भक्त कवियों में बहुत ऊँचा है। वे सच्चे अर्थों में समाज-सुधारक तथा युग पुरुष थे। कबीर निर्गुण भक्ति धारा की ज्ञानमार्गी ¶ााख

सुनो भई साधो
01-Jun-2016 12:00 AM 1358
सुनो भई साधो

हिंदी के संत साहित्य में कबीर का अत्यंत महत्त्वपूर्ण स्थान है। चार प्रमुख भक्त कवियों में कबीर सबसे पहले आते हैं। भक्तिकाल का समय मुहम्मद बिन तुगलक से ¶ाुरू होकर मुगलों के ¶ाासनकाल तक मान

सुरत निरत के भेद
01-Jun-2016 12:00 AM 415
सुरत निरत के भेद

कभी-कभी लगता है कि इतिहास तो अपनी गति से आगे बढ़ता चला गया है, लेकिन हम वहीं के वहीं खड़े रह गए हैं, जहां थे। है तो यह विडम्बना ही। इक्कीसवीं सदी की पन्द्रहवीं ¶ाताब्दी के युग से तुलना। लेकिन लग


अविस्मरणीय कबीर
01-Jun-2016 12:00 AM 1345
अविस्मरणीय कबीर

कबीर किसी धर्म के प्रवर्तक नहीं मात्र मानवता और सत्य के पुजारी हैं। वे संसार में रहते हुए सांसारिक मोह से परे, सत्य की ओर बढ़ने की प्रेरणा देते हैं। फक्कड़ कबीर ने समाज की प्रचलित कुप्रथाओं की खुलकर

कबीर के मायने
01-Jun-2016 12:00 AM 1370
कबीर के मायने

जिन शब्दों के पीछे शा·ात सत्य हैं शक्ति और प्रभाव उन्हीं में होता है। वे ही शा·ाती पाकर त्रिकालजयी होते हैं और समय का वह काल खण्ड स्वयं इनके ही नाम हो जाता है।
तैसे ध्यान धरहु जि

कबीर का समाज
01-Jun-2016 12:00 AM 1389
कबीर का समाज

अल्बर्ट आइंस्टीन से क्षमा-याचना सहित उनके ¶ाब्दों को बदलकर मैं कहना चाहूँगा कि आने वाली पीढ़ियां कैसे वि·ाास करेंगी कि पंद्रहवीं ¶ाताब्दी में एक ऐसा इंसान हाड़-मांस युक्त जन्मा था जि


साधो, सहज समाधि भली
01-Jun-2016 12:00 AM 1361
साधो, सहज समाधि भली

प्रायः महापुरुषों के अनेक रूप होते हैं। कबीर के भी अनेक रूप हैं। किसी के लिए वे दैनिक जीवन के लिए उपयोगी सूत्र देने वाले कवि हैं, तो किसी के लिए एक वि¶ोष पंथ के प्रवर्तक। किसी के लिए वे वर्तमा

दास कबीर जतन ते ओढ़ी
01-Jun-2016 12:00 AM 1359
दास कबीर जतन ते ओढ़ी

कबीर ने मानव देह का झीनी चादर का प्रतीक लेकर एक अति स¶ाक्त साँग-रूपक रचा है जिसके अंत में वे अन्यों और स्वयं के बारे में जो धाकड़ घोषणा करते हैं वह गर्वोक्ति नहीं, एक सिर चढ़कर बोलने वाला सच है।

हमन है इश्क मस्ताना
01-Jun-2016 12:00 AM 1315
हमन है इश्क मस्ताना

भारत की सभ्यता में कबीर का योग अनूठा है। उनके युग में न तो उग्रवाद था और न आज जैसा भ्रष्टाचार। मुस्लिम ¶ाासन होने के कारण धर्म-परिवर्तन के लिये जोर-जबरदस्ती जरूर की जाती थी। कबीर के समकालीन ना

Next
NEWSFLASH

हिंदी के प्रचार-प्रसार का स्वयंसेवी मिशन। "गर्भनाल" का वितरण निःशुल्क किया जाता है। अनेक मददगारों की तरह आप भी इसे सहयोग करे।

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal | Yellow Loop | SysNano Infotech | Structured Data Test ^