btn_subscribeCC_LG.gif btn_buynowCC_LG.gif

वह एक कमज़ोर औरत
01-Oct-2016 12:00 AM 3623     

            वह एक कमज़ोर औरत थी  
            जिसने बेटे को जीवनधन समझा
            दुनिया की नज़रों से बचा
            दिन रात निहोरा किया
            कभी आँचल में लुकाया  
            कभी फूलों से तौला
            बताशों से उतारा कभी  
            बलाओं का सदक़ा!
            और जब उसकी जवानी बौराई  
            अपनी तल्ख़ तनहाई में
            खुद को क़ैद कर  
            साँकल चढ़ा ली।
 
            वह एक कमज़ोर औरत थी
            जिसने दुनिया की शरम को  
            अपनी आबरू समझा
            चुपचाप माला पकड़ ली
            और अपनी बेसहारा ममता में
            घुट-घुट कर दम तोड़ दिया!

            उसके मरने के बाद
            बेटी ने समेटे
            चंद साझा खुशियों के एल्बम
            बेटे ने ली निजात की सांस!
            रिश्तों को जनम देनेवाली
            छोड़ गयी
            बिन चिपकन के
            कुछ रूखे रिश्ते
            वह एक कमज़ोर औरत।

            वह एक कमज़ोर औरत थी
            जिसने बेटी के
            नए, फड़फड़ाते पंखों को
            दूर की परवाज़ दी
            खुद की आज़ादी समझकर
            समुंदरों की गहराई से नाप दिया।
            और फिर मोबाईल नुमा
            बेनाड़ की नाड़ का
            परला सिरा बनकर रह गयी
            ज़िन्दगी भर!

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 19.09.26 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^