ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
स्वीकार
01-Jan-2017 01:33 AM 3177     

नैया पर मैं बैठ अकेली
निकली हूँ लाने उपहार
भव-सागर में भंवर बड़े हैं
दूभर उठना इनका भार
ना कोई मांझी ना पतवार
खड़ी मैं सागर में मंझधार
फिर भी जीवन है स्वीकार।

राहों में कंटक भरमार
अनगिन जलते हैं अंगार
अभिशापों का है भंडार
पग-पग पर मिलती है हार
वृष्टि की पड़ती बौछार
मंज़िल मेरी दूर अपार
फिर भी जीवन है स्वीकार।

कोई नहीं उन्माद शृंगार
ना कोई प्रीत, ना मनुहार
ना गेंदा है ना गुलनार
साज ना कोई ना स्वर-ताल
टूट रहे संयम के तार
सृजन करूं मैं बारम्बार
फिर भी जीवन है स्वीकार।

दर्द-दु:खों की है भरमार
मिलता ना कोई है उपचार
आँचल के झीने हैं तार
कर्कश नयनों की है मार
खड़ी हूँ प्यासी, ना जलधार
गिनती रहती ऋतुएँ चार
मन का छूटा है आधार
फिर भी जीवन है स्वीकार।

हो रहे नव आविष्कार
सकुचाया नभ का विस्तार
कितना भी कर लो उपकार
होता फिर भी अत्याचार
तर्क करूँ मन में कई बार                
क्यों निकली लाने उपहार
झूठा-मिथ्या है संसार।

QUICKENQUIRY
Related & Similar Links
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal - Version 15.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^