ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक
ARCHIVE
LATEST Next

मैं उस जगह हूँ जहाँ फासला रहे तुमसे
01-Feb-2017 01:02 AM 539 मैं उस जगह हूँ जहाँ फासला रहे तुमसे

जयपुर के लोकायत प्रकाशन पर जिस किताब पर मेरी नज़र पड़ी, वह थी आवाज़ चली आती है। इस नायाब किताब के शायर हैं मरहूम जनाब शाज़ तमकनत साहब। हिंदी पाठकों के लिए शायद ये नाम अंजाना हो लेकिन दकन में इनका नाम ब ...

पलाश शिरीष के फूल
01-Feb-2017 12:57 AM 600 पलाश शिरीष के फूल

पलाश

झूम रहे हैं पलाश
हौले-हौले
ओढ़ ओढ़नी
नुपुर बजाते खवाबों के
खिल गये हैं
पलाश

मौसम के आँगन में
अहसास के परिंदों पर
सु ...

मेरी कविता
01-Feb-2017 12:52 AM 562 मेरी कविता

गाय को गुड़
चिड़िया को दाना
भूखे की रोटी है कविता
सूरदास की आंख
जटायू पांख है कविता
कभी खेत की फसल
वीरों की नस्ल है कविता

पर आज उदास है मेरी कविता
बाजा ...

मूक दीवारें मोह के धागे
01-Feb-2017 12:48 AM 538 मूक दीवारें मोह के धागे

मूक दीवारें

जिंदगी की चहक कुछ और ही होती
काश दीवारें सुनने के साथ
कुछ कह भी सकतीं
जमाना जान जाता
भीतर उमड़ते
उस ज्वालामुखी का आक्रोश
कई रा ...


ऋतुराज बसन्त
01-Feb-2017 12:45 AM 545 ऋतुराज बसन्त

आ गया ऋतुराज बसन्त ।
छा गया ऋतुराज बसन्त ।।
हरित घेंघरी पीत चुनरिया  
पहिन प्रकृति ने ली अँगड़ाई
नव-समृद्धि पा विनत हुए तरु
झूम उठी देखो अमराई।
आज सुखद सुरभित सा क ...

मन व्यथित मेरे प्रवासी गीत में जो ढल रहा है
01-Feb-2017 12:40 AM 535 मन व्यथित मेरे प्रवासी  गीत में जो ढल रहा है

मन व्यथित मेरे प्रवासी

आज फिर इस धुन्ध में डूबी हुई स्मॄति के किनारे
किसलिये तू आ गया है? ओढ़ कर बैठा उदासी

स्वप्न की चंचल पतंगों का अभी तक कौन धागा
...

वह तैयार है
01-Feb-2017 12:37 AM 565 वह तैयार है

ईवान का चेहरा पीला पड़ा हुआ था। हाथों में थरथाराने की कंपन थी। उसने अपनी फाइलों और नोटबुक से अँटी मेज़ का कोना पकड़ लिया। कुछ पल वह ऐसे ही खड़ी रही। पीछे से उसे नैंसी का स्वर सुनाई दिया, "क्या हुआ ईवान ...

चलो विलायत
01-Feb-2017 12:34 AM 532 चलो विलायत

आख़िर लोग यात्रा क्यों करते हैं? आराम से घर क्यों नहीं बैठते? लो यह भी कोई पूछने की बात है! यह तो इंसानी  फ़ितरत है साहब। सुना है ना कि खाली दिमाग़ शैतान का घर होता है। जब तक काम काज में मसरूफ़ रह ...


अमेरिकन-ऑस्ट्रेलियन संस्कृति के बिम्ब
01-Feb-2017 12:32 AM 509 अमेरिकन-ऑस्ट्रेलियन संस्कृति के बिम्ब

छब्बीस वर्ष पूर्व मैं भारत छोड़कर ऑस्ट्रेलिया आया था, यहाँ बस जाने के लिये। अपनी जड़ों से अलग होने के कारण यह स्वाभाविक था कि किसी भी प्रवासी की तरह यहाँ की भाषा, रहन-सहन खान-पान और संस्कृति को सीखते ...

देखणा सो भूलणा नहीं
01-Feb-2017 12:30 AM 530 देखणा सो भूलणा नहीं

जीव का मूल स्वभाव है जिज्ञासा। यह उसकी मूलभूत जैविक आवश्यकताओं के कारण भी हो सकती है और मानसिक व वैचारिक ज़रूरतों के तहत भी। यह जिज्ञासा ही जीव को घुमाती है, सिखाती है और भटकाती भी है। परिस्थितिवश य ...

होना शुरू होना
01-Feb-2017 12:28 AM 516 होना शुरू होना

सागर शहर की झील के किनारे नजरबाग की सीढ़ियों पर बैठा निर्मल वर्मा के निबन्धों की किताब -- शब्द और स्मृति -- पढ़ रहा हूँ। जैसे कोई जलस्रोत किसी नदी में मिल जाने के लिए आकुल हो। दूर ठहरी हुई शब्दों की ...

फिजी में रामायण मेला
01-Feb-2017 12:22 AM 519 फिजी में रामायण मेला

भारत से लगभग बारह हजार किलोमीटर सुदूर पूर्व दिशा में बसे छोटे से फिजी द्वीप में, अक्तूबर 2016 में, पहला अन्तर्राष्ट्रीय रामायण सम्मेलन हुआ। यह सर्वविदित है कि हमारे देश से 1879-1916 के बीच लगभग साठ ...


एडिनबर्ग नहीं एडनबरा
01-Feb-2017 12:18 AM 520 एडिनबर्ग नहीं एडनबरा

विचार बना कि जब यॉर्क, यू.के. तक आ ही गये हैं तो दो दिनों के लिए ऐतिहासिक नगरी एडनबर्ग, स्कॉटलैंड भी हो आया जाया। इच्छा जाहिर करने पर सबसे पहले यह बताया गया कि इस शहर को लिखते एडनबर्ग हैं मगर कहते ...

ऐतिहासिक शहरों की रोमांचक यात्रा
01-Feb-2017 12:15 AM 509 ऐतिहासिक शहरों की रोमांचक यात्रा

सेंट लुइस मिसौरी प्रान्त में एक बहुत बड़ा और खूबसूरत शहर है जो की मिसिसिप्पी नदी के किनारे पर है। बहुत समय से इस शहर को देखने का मन था इसलिए हाल ही में वहां जाने का अच्छा अवसर मिला। कभी पहले किसी ने ...

अमेरिका में रहकर भारत की ललक
01-Feb-2017 12:09 AM 1984 अमेरिका में रहकर भारत की ललक

भारतवंशी रहें कहीं भी दूर या पास, हृदय में बंशी भारत की ही बजती है। कितने भी सुख साधन उपलब्ध हों, दिल की हर धड़कन में नाम भारत का ही धड़कता है। दूर, सुदूर रहकर जब कोई अपना भारतवंशी मिलता है तो लगता ह ...


पालिम्यू जंगल और अमर इंडियन
01-Feb-2017 12:05 AM 1994 पालिम्यू जंगल और अमर इंडियन

तारीखों के इतिहास में बंद पड़ा है अतीत के एक सौ चालीस वर्षों का दर्दनाक इतिहास। अहर्निश होने वाली वर्षा ने धोया है, बहाया है दु:ख-दर्द का इतिहास। लेकिन पानी के धोने और बहाने से नहीं खतम होता है-ऐतिह ...

पण्डित पदयात्रियों की हिमालय यात्राएँ
01-Feb-2017 12:02 AM 2388 पण्डित पदयात्रियों की हिमालय यात्राएँ

भारत में सन् 1857 के असफल स्वतंत्रता संग्राम ने ईस्ट इण्डिया कम्पनी की चूलें हिला दी थीं। तत्कालीन सरकार देश के अंदरूनी इलाकों के साथ-साथ सीमावर्ती प्रदेशों को सुरक्षित करने में जुट गयी। भारत की उत ...

अरे यायावर रहेगा याद
01-Feb-2017 12:00 AM 2365 अरे यायावर रहेगा याद

आज यात्राएं होती हैं पर वे पूंजी निवेश के लिये जितनी हैं उतनी शब्द निवेश के लिये नहीं। शब्द निवेश के बिना पूंजी की अर्थहीनता विश्व को ही डुबो देगी। क्योंकि विश्व पूंजी में नहीं शब्द में बसता है। इस ...

प्रवासी भारतीय दिवस एक सामयिक चेतना
01-Jan-2017 11:57 PM 1195 प्रवासी भारतीय दिवस एक सामयिक चेतना

भारतीय मूल के लोग बड़ी संख्या में कई दशकों से विदेशों में बसे हुए हैं और उन्होंने प्रत्येक क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। जिसमें व्यवसाय, शिक्षा, नौकरी, वैज्ञानिक एवं तकनीकी सन्दर्भ शामिल है ...


चले गए अनुपम भाई
01-Jan-2017 11:50 PM 1188 चले गए अनुपम भाई

उन दिनों कॉलेज में था। आपातकाल में सेंसरशिप का विरोध करते हुए पत्रकारिता की शुरुआत हो गई थी। शायद उन्नीस सौ पचहत्तर या छियत्तर के आसपास अनुपम भाई से मुलाक़ात हुई थी और तब से लेकर उनके आख़िरी सफ़र पर ज ...

यहाँ पर भीड़ में सब अजनबी हैं
01-Jan-2017 01:52 AM 2392 यहाँ पर भीड़ में सब अजनबी हैं

शायर जनाब अनवारे इस्लाम की बात करती हुई ग़ज़लों की किताब का शीर्षक है- मिजाज़ कैसा है।
उस की आँखों में आ गए आंसू
मैंने पूछा मिजाज़ कैसा है
दूर तक रेत ही चमकती है
कोई पानी नहीं है धो ...

गुनियाँ प्लैटफ़ॉर्म
01-Jan-2017 01:46 AM 2398 गुनियाँ प्लैटफ़ॉर्म

गुनियाँ

माँ ने चिरैया का नाम
रखा था "गुनियाँ"
कभी सूप पर आ बैठती
और तकती थी माँ की ऐनक को
कभी फुदक कर
आरसी (दर्पण) के सामने जा बैठती थी
लड़त ...

ऐ जिंदगी तू मेरी धुन गा के तो देख
01-Jan-2017 01:38 AM 2393 ऐ जिंदगी तू मेरी धुन  गा के तो देख

ऐ जिंदगी

ऐ जिंदगी गर्दिश का तारा न बन
बेशक धूप और छाया न बन
बनना है तो बन जा मेरी हिम्मत
यूं काँटों का ताज न बन।

मेरे रूठे अल्फाज की कहानी ...

LATEST Next
आवरण (71)
दूर-देशों के भारतवंंशी गिरमिटिया
01-Nov-2016 12:00 AM 2055
दूर-देशों के भारतवंंशी गिरमिटिया

यह मानव का नैसर्गिक स्वभाव है कि वह जोखिम भरे कामों को आगे बढ़कर उत्साहपूर्वक करता है। जब मानव को .. >>

फ़ीजी के भारतवंशी
01-Nov-2016 12:00 AM 2057
फ़ीजी के भारतवंशी

प्रथम प्रवासी भारतीय श्रमिक के फीजी में अपना पग रखते ही हिंदी का प्रवेश यहाँ हो गया था। क्योंकि अ .. >>

अस्मिता के संघर्षशील सिपाही
01-Nov-2016 12:00 AM 2043
अस्मिता के संघर्षशील सिपाही

सन् 1498 में 31 जुलाई की दोपहर समुद्र में अपनी यात्रा के दौरान किसी जमीन की तलाश में हताश कोलंबस .. >>

कविता (45)
पलाश शिरीष के फूल
01-Feb-2017 12:57 AM 600
पलाश शिरीष के फूल

पलाश

झूम रहे हैं पलाश
हौले-हौले
ओढ़ ओढ़नी
नुपुर बजाते .. >>

मेरी कविता
01-Feb-2017 12:52 AM 562
मेरी कविता

गाय को गुड़
चिड़िया को दाना
भूखे की रोटी है कविता
सूरदास की आंख
जटायू पांख है .. >>

मूक दीवारें मोह के धागे
01-Feb-2017 12:48 AM 538
मूक दीवारें मोह के धागे

मूक दीवारें

जिंदगी की चहक कुछ और ही होती
काश दीवारें सुनने के सा .. >>

मन की बात (18)
प्रवासी भारतीय दिवस एक सामयिक चेतना
01-Jan-2017 11:57 PM 1195
प्रवासी भारतीय दिवस एक सामयिक चेतना

भारतीय मूल के लोग बड़ी संख्या में कई दशकों से विदेशों में बसे हुए हैं और उन्होंने प्रत्येक क्षेत्र .. >>

हिंदी प्रवासी साहित्य से अपेक्षाएँ
01-Jan-2017 12:17 AM 1193
हिंदी प्रवासी साहित्य से अपेक्षाएँ

भारत से प्रवास पर जाने का कार्य सदैव होता रहा है। आवागमन के साधनों ने इस प्रक्रिया में और तेजी ला .. >>

हिंदी साहित्य में प्रवासीपन का फतवा
01-Jan-2017 12:14 AM 1191
हिंदी साहित्य में प्रवासीपन का फतवा

अंडा जब बाहर से फोड़ा जाता है तो एक हत्या बन जाता है, परन्तु जब वह अन्दर से फोड़ा जाता है तो एक सृज .. >>

विशेष (16)
किंवदन्ती बन गई किताब
01-May-2016 12:00 AM 1138
किंवदन्ती बन गई किताब

कीसी भी हिंदी लेखक की पुस्तक के यदि तीन संस्करण यानि 1500 किताबें प्रका¶िात हो जाए तो उसका म .. >>

भारत-चीन व्यापार की सुदृढ़ होती डोर
01-Jan-2016 12:00 AM 138
भारत-चीन व्यापार की सुदृढ़ होती डोर

वर्तमान में चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक मित्र है और भारत चीन का दसवां सबसे बड़ा व्यापारिक मित्र .. >>

उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय दिवस यादगार होगा - अखिलेश यादव
01-Jan-2016 12:00 AM 97
उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय दिवस यादगार होगा - अखिलेश यादव

प्रश्न : आगरा में 4 से 6 जनवरी 2016 को पहला "उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय दिवस' मनाया जा रहा है। इ .. >>

विमर्श (16)
अमेरिकन-ऑस्ट्रेलियन संस्कृति के बिम्ब
01-Feb-2017 12:32 AM 509
अमेरिकन-ऑस्ट्रेलियन संस्कृति के बिम्ब

छब्बीस वर्ष पूर्व मैं भारत छोड़कर ऑस्ट्रेलिया आया था, यहाँ बस जाने के लिये। अपनी जड़ों से अलग होने .. >>

वाल्मीकि रामायण : आधुनिक विमर्श-15 दण्डकारण्य हिंदी अनुवाद : संजीव त्रिपाठी
01-Jan-2017 01:06 AM 1197
वाल्मीकि रामायण : आधुनिक विमर्श-15 दण्डकारण्य हिंदी अनुवाद : संजीव त्रिपाठी

रामायण की कहानी मुख्यतः तीन भोगोलिक भूभागों में बुनी गई है, उनमें से प्रथम है "अयोध्या" और उसका स .. >>

प्रेम होता है तो हो, ध्रुव उसे क्यों करते हो...
01-Dec-2016 12:00 AM 1194
प्रेम होता है तो हो, ध्रुव उसे क्यों करते हो...

किसी-किसी के लिए वह सिर्फ एक अहसास भर है और किसी के लिए आहट-सा सुनायी पड़ता है। किसी के लिए वह ऐसी .. >>

रम्य रचना (16)
चलो विलायत
01-Feb-2017 12:34 AM 532
चलो विलायत

आख़िर लोग यात्रा क्यों करते हैं? आराम से घर क्यों नहीं बैठते? लो यह भी कोई पूछने की बात है! यह तो .. >>

प्रवासी दिवस के बहाने
01-Jan-2017 01:04 AM 2001
प्रवासी दिवस के बहाने

गये ज़माने में जब जनसंख्या कम थी तो लोग मिलजुल कर रहते थे। रिश्तों की क़दर करते थे। अब जनसंख्या विस .. >>

राजनीतिक रंगमंच
01-Dec-2016 12:00 AM 1195
राजनीतिक रंगमंच

शेक्सपियर ने कहा था कि सारी दुनिया एक रंगमंच है और सभी लोग सिर्फ किरदार हैं। खैर, शेक्सपियर के अन .. >>

शब्द चित्र (14)
होना शुरू होना
01-Feb-2017 12:28 AM 516
होना शुरू होना

सागर शहर की झील के किनारे नजरबाग की सीढ़ियों पर बैठा निर्मल वर्मा के निबन्धों की किताब -- शब्द और .. >>

घर सँवरने से दुनिया सँवरती है
01-Jan-2017 12:54 AM 1210
घर सँवरने से दुनिया सँवरती है

मेरा घर अब दोस्तों को अपने घर से दूर लगता है। मुझे बच्चे घर से दूर लगते हैं। मैं भी घर से कुछ दूर .. >>

तरक्की की राह पर दौड़ने के आशय
01-Jan-2017 12:47 AM 1184
तरक्की की राह पर दौड़ने के आशय

यहाँ कनाडा में हम साल में दो बार समय के साथ छेड़छाड़ करते हैं जिसे डे लाईट सेविंग के नाम से जाना जा .. >>

सम्पादकीय (12)
अरे यायावर रहेगा याद
01-Feb-2017 12:00 AM 2365
अरे यायावर रहेगा याद

आज यात्राएं होती हैं पर वे पूंजी निवेश के लिये जितनी हैं उतनी शब्द निवेश के लिये नहीं। शब्द निवेश .. >>

वासी, प्रवासी, अप्रवासी
01-Jan-2017 12:00 AM 1186
वासी, प्रवासी, अप्रवासी

लगभग आधी सदी पहले राजकपूर अभिनीत एक फिल्म - जिस देश में गंगा बहती है बनी थी और उसका शैलेन्द्र का .. >>

तुम निरखो, हम नाट्य करें...
01-Dec-2016 12:00 AM 1178
तुम निरखो, हम नाट्य करें...

भारत की नाट्य परम्परा पूरे संसार में अपने विशिष्ट रंग प्रयोजनों के लिये विख्यात है। भारत के रंगमं .. >>

शिकागो की डायरी (10)
शिकागो में रंगमंच की दुनिया
01-Dec-2016 12:00 AM 1184
शिकागो में रंगमंच की दुनिया

रंगमंच हमें सब कुछ बता सकता है। कैसे देवताओं का स्वर्ग में वास है और कैसे कैदियों की भूल भूमिगत ग .. >>

अफ्रीका घूमने का रोमांच
01-Nov-2016 12:00 AM 1991
अफ्रीका घूमने का रोमांच

अफ्रीका का नाम सुनते ही अभी भी बहुतों के मन में जंगली जीवन का दृश्य घूमने लगता है। कई सालों पहले .. >>

समाजसेवा के आधुनिक आयाम
01-Oct-2016 12:00 AM 2373
समाजसेवा के आधुनिक आयाम

सिम्पली वैदिक (च्त्थ्र्द्रथ्न्र् ज्ड्ढड्डत्ड़) जैसा कि नाम से ही उजागर होता है कि "सिंपल लाइफ हाई .. >>

शायरी की बात (10)
मैं उस जगह हूँ जहाँ फासला रहे तुमसे
01-Feb-2017 01:02 AM 539
मैं उस जगह हूँ जहाँ फासला रहे तुमसे

जयपुर के लोकायत प्रकाशन पर जिस किताब पर मेरी नज़र पड़ी, वह थी आवाज़ चली आती है। इस नायाब किताब के शा .. >>

इस चमन के फूल को पत्थर न होने दीजिये
01-Dec-2016 12:00 AM 1190
इस चमन के फूल को पत्थर न होने दीजिये

ग़ज़ल को नए ढंग से परिभाषित करने वाले शायरों में जनाब प्रेमकिरण
साहब को बिलाशक शामिल किया जा .. >>

ग़म तो है हासिले ज़िन्दगी दोस्तो
01-Nov-2016 12:00 AM 2018
ग़म तो है हासिले ज़िन्दगी दोस्तो

उर्दू के मशहूर शायर जनाब नक्श लायलपुरी की किताब "तेरी गली की तरफ" का एक पृष्ठ देवनागरी में और दूस .. >>

कृति-स्मृति (10)
राम की शक्ति पूजा
01-Sep-2016 12:00 AM 2393
राम की शक्ति पूजा

है अमानिशा, उगलता गगन घन अन्धकार
खो रहा दिशा का ज्ञान, स्तब्ध है पवन-चार
अप्रतिहत गरज र .. >>

निःशस्त्र सेनानी
01-Sep-2016 12:00 AM 2378
निःशस्त्र सेनानी

सुजन, ये कौन खड़े हैं? बन्धु! नाम ही है इनका बेनाम।
कौन करते है ये काम? काम ही है बस इनका काम .. >>

सखि वे मुझसे कह कर जाते
01-Sep-2016 12:00 AM 2374
सखि वे मुझसे कह कर जाते

सखि, वे मुझसे कहकर जाते,
कह, तो क्या मुझको वे अपनी
पथ-बाधा ही पाते?
मुझको बहुत उन .. >>

संस्मरण (9)
फिजी में रामायण मेला
01-Feb-2017 12:22 AM 519
फिजी में रामायण मेला

भारत से लगभग बारह हजार किलोमीटर सुदूर पूर्व दिशा में बसे छोटे से फिजी द्वीप में, अक्तूबर 2016 में .. >>

एडिनबर्ग नहीं एडनबरा
01-Feb-2017 12:18 AM 520
एडिनबर्ग नहीं एडनबरा

विचार बना कि जब यॉर्क, यू.के. तक आ ही गये हैं तो दो दिनों के लिए ऐतिहासिक नगरी एडनबर्ग, स्कॉटलैंड .. >>

ऐतिहासिक शहरों की रोमांचक यात्रा
01-Feb-2017 12:15 AM 509
ऐतिहासिक शहरों की रोमांचक यात्रा

सेंट लुइस मिसौरी प्रान्त में एक बहुत बड़ा और खूबसूरत शहर है जो की मिसिसिप्पी नदी के किनारे पर है। .. >>

जन्नत की हकीकत (8)
देखणा सो भूलणा नहीं
01-Feb-2017 12:30 AM 530
देखणा सो भूलणा नहीं

जीव का मूल स्वभाव है जिज्ञासा। यह उसकी मूलभूत जैविक आवश्यकताओं के कारण भी हो सकती है और मानसिक व .. >>

अतियों के बीच झूलता अमरीकी समाज
01-Dec-2016 12:00 AM 1190
अतियों के बीच झूलता अमरीकी समाज

मूल रूप से अमरीकी समाज सनक की सीमा तक पहुंचा हुआ समाज है जिसकी अपनी कुंठाओं से मुक्ति नहीं हुई है .. >>

प्रवास के मंतव्य और मानसिकता
01-Nov-2016 12:00 AM 2015
प्रवास के मंतव्य और मानसिकता

आदिमकाल में मनुष्य का कोई निश्चित स्थान नहीं था और राष्ट्र जैसी अवधारणा तो कतई नहीं थी। भोजन के ल .. >>

अनुवाद (8)
मानस प्रबंधन अंग्रेजी से अनुवाद राजेश करमहे भाग : तीन
01-Jul-2016 12:00 AM 1108
मानस प्रबंधन अंग्रेजी से अनुवाद राजेश करमहे भाग : तीन

सामान्य बोध में असामान्य क्या है?
1776 के आरम्भिक समय में, जब थॉमस पेन लोगों को प्रेरित कर र .. >>

मानस प्रबंधन अंग्रेजी से अनुवाद राजेश करमहे भाग : दो
01-Jun-2016 12:00 AM 1045
मानस प्रबंधन अंग्रेजी से अनुवाद राजेश करमहे भाग : दो

असली आधुनिकता क्या है?
मात्र पाँच सौ वर्ष पहले कोलंबस के द्वारा अमेरिका की खोज की गई थी। ज़ल् .. >>

मानस प्रबंधन
01-May-2016 12:00 AM 1125
मानस प्रबंधन

इस दुनियाँ में सभी मनुष्य एक समान नहीं हैं। हर कोई दूसरे से व्यवहार, स्वभाव, पसंद, महत्वाकांक्षा .. >>

व्याख्या (7)
कस्मै देवाय हविषा विधेम?
01-Jul-2016 12:00 AM 1262
कस्मै देवाय हविषा विधेम?

भारतीय मानस की अनवरत् जिज्ञासा की कथा की यह कड़ी आधुनिक भारत में वैज्ञानिक विकास लिखने के क्रम में .. >>

कस्मै देवाय हविषा विधेम?
01-Jun-2016 12:00 AM 1262
कस्मै देवाय हविषा विधेम?

गर्भनाल पत्रिका, मई 2016 अंक में प्राचीन भारत में ज्ञान-विज्ञान की चर्चा करते हुए वैदिक युग की वै .. >>

वर्षा स्मृति (7)
वर्षा वर्णन
01-Jul-2016 12:00 AM 1104
वर्षा वर्णन

गोस्वामी तुलसीदास
प्रयाग के पास बाँदा जिले में राजापुर नामक गाँव में संवत् 1554 को जन्म। का& .. >>

काले बादल
01-Jul-2016 12:00 AM 1107
काले बादल

सुमित्रानंदन पंत
बीसवीं सदी का पूर्वाद्र्ध छायावादी कवियों का उत्थान काल था। उसी समय अल्मोड़ा .. >>

बादल राग
01-Jul-2016 12:00 AM 1141
बादल राग

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला'
वसंत पंचमी, 1896, मेदिनीपुर, प¶िचम बंगाल में जन्म। मुख्य कृ .. >>

स्वराज-स्मृति (7)
स्वाधीनता
01-Aug-2016 12:00 AM 74
स्वाधीनता

जिस प्रकार भी हो, हमें संघ को दृढ़प्रतिष्ठ और उन्नत बनाना होगा और इसमें हमें सफलता मिलेगी- अवशय मि .. >>

स्वराज्य
01-Aug-2016 12:00 AM 186
स्वराज्य

मेरे... हमारे... सपनों के स्वराज्य में जाति (रेस) या धर्म के भेदों का
कोई स्थान नहीं हो सकत .. >>

नियति से वादा
01-Aug-2016 12:00 AM 180
नियति से वादा

कई सालों पहले, हमने नियति के साथ एक वादा (Tryst with Destiny) किया था, और अब समय आ गया है कि हम अ .. >>

बातचीत (6)
भारतवंशियों के दंश और पीड़ा को समझना होगा
01-Nov-2016 12:00 AM 2023
भारतवंशियों के दंश और पीड़ा को समझना होगा

भारतवंशी संस्कृति की अध्येता साहित्यकार प्रो. डॉ. पुष्पिता अवस्थी से आत्माराम शर्मा की बातचीत
.. >>

प्रख्यात साहित्यकार डॉ. सुधाकर अदीब से राजू मिश्र की बातचीत
01-Oct-2016 12:00 AM 2341
प्रख्यात साहित्यकार डॉ. सुधाकर अदीब से राजू मिश्र की बातचीत

किताब बचेगी तो ही भाषा बचेगी सुधाकर अदीब की पैदाइश उसी अयोध्या में है जहां मर्यादा पुरुषोत्तम भगव .. >>

उर्दू साहित्यकार डॉ. वजाहत हुसैन रिजवी से प्रख्यात पत्रकार राजू मिश्र की बातचीत
01-Sep-2016 12:00 AM 2388
उर्दू साहित्यकार डॉ. वजाहत हुसैन रिजवी से प्रख्यात पत्रकार राजू मिश्र की बातचीत

जहां लफ्जों के मोती, एहसास की डोर में गुंथ जाते हैं तो शायरी का रूप धर लेते हैं और जब बोलों की शक .. >>

रपट (5)
अहमदाबाद इंटरनेशनल लिट्रेचर फेस्टिवल सम्पन्न
01-Dec-2016 12:00 AM 1171
अहमदाबाद इंटरनेशनल लिट्रेचर फेस्टिवल सम्पन्न

विगत 12-13 नवम्बर को अहमदाबाद इंटरनेशनल लिट्रेचर फेस्टिवल का आयोजन सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ। उद्घा .. >>

आधुनिक विमर्श के बहुआयामी सन्दर्भ
01-Dec-2016 12:00 AM 1169
आधुनिक विमर्श के बहुआयामी सन्दर्भ

लखनऊ एक्सप्रेशन द्वारा 18, 19 तथा 20 नवम्बर को लखनऊ शहर में आयोजित लिटरेचर फैस्टिवल साहित्यिक संप .. >>

बेलारूस में हिंदी समर कैंप
01-Aug-2016 12:00 AM 172
बेलारूस में हिंदी समर कैंप

छह से चौबीस जून 2016 तक "ज़ारनीत्सा" नामक समर कैंप सम्पन्न हुआ। बेलारूस के मिन्स्क नगर से 46 किलोम .. >>

स्मरण (4)
महात्मा गांधी चरित स्वयं ही काव्य
01-Oct-2016 12:00 AM 2387
महात्मा गांधी चरित स्वयं ही काव्य

भारत के हृदय प्रदेश के उज्जयिनी नगर निवासी यशस्वी कवि श्री शिवमंगल सिंह "सुमन" की नोटबुक में पण्ड .. >>

साबरमती के तट पर
01-Oct-2016 12:00 AM 2380
साबरमती के तट पर

साबरमती नदी के तट को सीमेंट का बना दिया गया है। दूर से देखने पर अब वह पेरिस की सेन नदी के तट की फ .. >>

स्मृतिगंधा
01-Apr-2016 12:00 AM 83
स्मृतिगंधा

जैसे पूरा यथार्थ आमने-साने की पहाड़ियों के बीच फैला है। एक पहाड़ी उजाले की दूसरी अंधेरे की। उजाले म .. >>

सिंगापुर की डायरी (4)
सिंगापुर के भारतवंशी
01-Nov-2016 12:00 AM 1985
सिंगापुर के भारतवंशी

वाणिज्यिक मार्ग के संगम पर बसा सिंगापुर मलाया द्वीप समूह को नापता हुआ भिन्न मूल के लोगों के प्रवा .. >>

सर्वज्ञता की खोज का मिशन
01-Aug-2016 12:00 AM 168
सर्वज्ञता की खोज का मिशन

आज़ादी के सही मायने आखिर हैं क्या? क्या सिर्फ नारे लगाने की छूट या बस अपने मन का करने की छूट को ही .. >>

मज़दूर दिवस बनाम प्रवासी मज़दूर
01-May-2016 12:00 AM 1071
मज़दूर दिवस बनाम प्रवासी मज़दूर

प्रवासी ¶ाब्द बड़ा मनमोहक है। सुनकर लगता है जैसे एक बड़ा तगमा जुड़ गया हो। सिंगापुर में भी प्रव .. >>

तथ्य (3)
प्रवासी जीवन पर पहली कहानी शूद्रा
01-Oct-2016 12:00 AM 2365
प्रवासी जीवन पर पहली कहानी शूद्रा

प्रेमचंद हिन्दी कहानी के इतिहास में अनेक नये विषयों, सम्वेदनाओं एवं प्रवृत्तियों के उद्भावक थे। उ .. >>

चीनी युवाओं में भारत का आकर्षण
01-May-2016 12:00 AM 1068
चीनी युवाओं में भारत का आकर्षण

सदियों से चीनी जनमानस के मनोमस्तिष्क में भारत वास करता आया है। भारत और चीन पिछले दो हजार से भी ज् .. >>

विदेशी छात्रों की कारकपरक त्रुटिया
01-Mar-2016 12:00 AM 69
विदेशी छात्रों की कारकपरक त्रुटिया

विदेशी छात्र एवं छात्राएं हिंदी सीखने के लिए भारत आते हैं अथवा अपने ही देश में हिंदी सीखते हैं, उ .. >>

नजरिया (3)
देशाटन का आनंद है अलग
01-Aug-2016 12:00 AM 166
देशाटन का आनंद है अलग

भारत की संस्कृति एक आत्मसंबद्ध निरंतर संस्कृति है इसलिए यहां का हर क्षेत्र सांस्कृतिक रूप से हर द .. >>

झूठ का समाजशास्त्र
01-May-2016 12:00 AM 1080
झूठ का समाजशास्त्र

कवि ¶ाुंतारी तानी कावा ने अपनी एक कविता में लिखा है : "कुछ बातें हम झूठ बोलकर ही कह सकते हैं .. >>

बिना सम्मान समता का मूल्य नहीं
01-Mar-2016 12:00 AM 62
बिना सम्मान समता का मूल्य नहीं

हमारा यह समय अन्याय चीजों के लिए जाना जायेगा। मसलन बाजार के घर के कोनों तक में घुस आने के लिए, बु .. >>

न्यूयॉर्क की डायरी (3)
भाषा की कशमकश
01-Dec-2016 12:00 AM 1184
भाषा की कशमकश

न्यूयॉर्क में प्रवासी भारतीयों द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक गतिविधियाँ संचालित की जाती हैं। इसके लिय .. >>

साहित्य पढ़ने की उम्र
01-Nov-2016 12:00 AM 1999
साहित्य पढ़ने की उम्र

यह विचार कई दिनों से मेरे मन में आ रहा था कि साहित्य पढ़ने की क्या उम्र होनी चाहिए एवं किस उम्र मे .. >>

विश्व हिन्दी दिवस का आयोजन सम्पन्न
01-Feb-2016 12:00 AM 74
विश्व हिन्दी दिवस का आयोजन सम्पन्न

बैंक ऑफ बड़ौदा, न्यूयार्क द्वारा अपने परिसर में विगत 20 जनवरी को "वि?ा हिन्दी दिवस' का आयोजन किया .. >>

NEWSFLASH

हिंदी के प्रचार-प्रसार का स्वयंसेवी मिशन। "गर्भनाल" का वितरण निःशुल्क किया जाता है। अनेक मददगारों की तरह आप भी इसे सहयोग करे।

QUICKENQUIRY
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - Garbhanal | Yellow Loop | SysNano Infotech | Structured Data Test ^