ISSN 2249-5967

 

सुषमा शर्मा

सम्पादक

Aug

Jul

Jun

May

Apr

Mar

Feb

Jan

आवरण (63)

लंदन में बरसात के दिन
लंदन में बरसात के दिन

अक्सर कहा जाता है कि लंदन या ब्रिाटेन में वर्षाऋतु नहीं होती केवल बरसात का मौसम होता है। यहाँ जब .. >>

ललित मोहन जोशी , 7/1/2016 12:00:00 AM 1001
इंग्लैंड की बरसातें
इंग्लैंड की बरसातें

यह चुटकुला इंग्लैंड में बेहद प्रसिद्ध है कि "इंग्लैंड में बारि¶ा साल में सिर्फ दो बार होती ह .. >>

शिखा वाष्र्णेय, 7/1/2016 12:00:00 AM 1001
ऑस्ट्रेलिया में बरखा
ऑस्ट्रेलिया में बरखा

लोग मुझसे मौसम के बारे में कुछ भी पूछने से कतराते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि मैं मौसम- विभाग में .. >>

हरिहर झा, ऑस्ट्रेलिया 7/1/2016 12:00:00 AM 1001

विशेष (16)

किंवदन्ती बन गई किताब
किंवदन्ती बन गई किताब

कीसी भी हिंदी लेखक की पुस्तक के यदि तीन संस्करण यानि 1500 किताबें प्रका¶िात हो जाए तो उसका म .. >>

नीलम कुलश्रेष्ठ, India 5/1/2016 12:00:00 AM 1001
भारत-चीन व्यापार की सुदृढ़ होती डोर
भारत-चीन व्यापार की सुदृढ़ होती डोर

वर्तमान में चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक मित्र है और भारत चीन का दसवां सबसे बड़ा व्यापारिक मित्र .. >>

डॉ. विवेक मणि त्रिपाठी , India 1/1/2016 12:00:00 AM 0
उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय दिवस यादगार होगा - अखिलेश यादव
उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय दिवस यादगार होगा - अखिलेश यादव

प्रश्न : आगरा में 4 से 6 जनवरी 2016 को पहला "उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय दिवस' मनाया जा रहा है। इ .. >>

सुषमा शर्मा, India 1/1/2016 12:00:00 AM 0

कविता (13)

एक कबीर नहीं बना सकते?
एक कबीर नहीं बना सकते?

रह-रह कर पूछता हूँ तुमसे
इतना बनाते रहते हो तुम
इतना बनाते रहते हैं हम
एक कबीर ही .. >>

राधेकांत दवे, 6/1/2016 12:00:00 AM 1001
लोक में कबीर
लोक में कबीर

बुन्देली

नैहर खेल लेव चार दिन चारी
पैले लुबउवा तीन जनें आये, नाई बामन बारी।
.. >>

ADMIN, INDIA 6/1/2016 12:00:00 AM 1001
परकटी चिड़िया एक और पड़ाव
परकटी चिड़िया एक और पड़ाव

परकटी चिड़िया


क्या बिगड़ गया
जो पंख कट गया
अब भी देख .. >>

रेखा मैत्र, 5/1/2016 12:00:00 AM 1001

विमर्श (9)

धर्म कर्म कछु नहीं उहंवां
धर्म कर्म कछु नहीं उहंवां

रामानन्द के ¶िाष्य, संवादी कबीर ने स्वयं को न कभी धर्मगुरु कहा, न अवतार। वे स्वयं को न पैगंब .. >>

पुरुषोत्तम अग्रवाल, 6/1/2016 12:00:00 AM 1001
ज्यों की त्यों धर दीनी चदरिया
ज्यों की त्यों धर दीनी चदरिया

1
बहुत बरस नहीं हुए जब कबीर-गायन सुनते हुये मेरी मुलाकात एक बूढ़े ग्रामीण से हुई। उन्होंने पह .. >>

उदयन वाजपेयी, INDIA 6/1/2016 12:00:00 AM 1001
लागा चुनरी में दाग़
लागा चुनरी में दाग़

पण्डित कुमार गंधर्व की आवाज़ आ रही है। वे कबीर के करघे की लय पर गा रहे हैं-
दास कबीर जतन सों .. >>

ध्रुव शुक्ल, INDIA 6/1/2016 12:00:00 AM 1001

रम्य रचना (9)

हरियाला सावन ढोल बजाता आया
हरियाला सावन ढोल बजाता आया

इस साल की भयानक गर्मी के बाद -- "सावन आया – धिन तक तक मन के मोर नचाता आया।' वर्षा और मोर का .. >>

सुधा दीक्षित, INDIA 7/1/2016 12:00:00 AM 1001
कहत कबीर सुनो भई साधो
कहत कबीर सुनो भई साधो

कबीरदास बड़े ही विलक्षण व्यक्ति थे। एकदम बिंदास, बिलकुल हमारी तरह। उन्हीं की तरह हमारी भी ना किसी .. >>

सुधा दीक्षित, INDIA 6/1/2016 12:00:00 AM 1001
मुग़ालतों का दौर
मुग़ालतों का दौर

जैसे उम्मीद पर दुनिया क़ायम है उसी तरह गलत-फहमियों में क़ायनात टिकी है। आख़िर ¶ाराफ़त भी कोई चीज़ .. >>

सुधा दीक्षित, INDIA 5/1/2016 12:00:00 AM 1001

शब्द चित्र (8)

मुंबई की बरसात
मुंबई की बरसात

इस साल जून के महीने में बरसात का कहीं नामोनिशाां नहीं दिखा। गरमी और पसीने से त्राहिमाम् करते लोगो .. >>

अनुराधा महेंद्र, 7/1/2016 12:00:00 AM 1001
बारिश में मुंबई
बारिश में मुंबई

समुंदर की लहरें उफान पर हैं। किनारे से टकराकर, किनारे को भिगोकर, कोलतार की स्याह सड़कों पर उछलकर फ .. >>

डॉ. सुलभा कोरे, 7/1/2016 12:00:00 AM 1001
हिमाचल में बरसात का रोमांच
हिमाचल में बरसात का रोमांच

देश के मैदानी इलाकों में भले ही बरसात का मौसम आफत लेकर आता हो लेकिन ऊँचे पहाड़ों पर यही बरसात कुदर .. >>

अनन्त आलोक, 7/1/2016 12:00:00 AM 1001

अनुवाद (8)

मानस प्रबंधन अंग्रेजी से अनुवाद राजेश करमहे भाग : तीन
मानस प्रबंधन अंग्रेजी से अनुवाद राजेश करमहे भाग : तीन

सामान्य बोध में असामान्य क्या है?
1776 के आरम्भिक समय में, जब थॉमस पेन लोगों को प्रेरित कर र .. >>

बी.मरिया कुमार, 7/1/2016 12:00:00 AM 1001
मानस प्रबंधन अंग्रेजी से अनुवाद राजेश करमहे भाग : दो
मानस प्रबंधन अंग्रेजी से अनुवाद राजेश करमहे भाग : दो

असली आधुनिकता क्या है?
मात्र पाँच सौ वर्ष पहले कोलंबस के द्वारा अमेरिका की खोज की गई थी। ज़ल् .. >>

बी.मरिया कुमार, 6/1/2016 12:00:00 AM 1001
मानस प्रबंधन
मानस प्रबंधन

इस दुनियाँ में सभी मनुष्य एक समान नहीं हैं। हर कोई दूसरे से व्यवहार, स्वभाव, पसंद, महत्वाकांक्षा .. >>

बी.मरिया कुमार, 5/1/2016 12:00:00 AM 1001

वर्षा स्मृति (7)

वर्षा वर्णन
वर्षा वर्णन

गोस्वामी तुलसीदास
प्रयाग के पास बाँदा जिले में राजापुर नामक गाँव में संवत् 1554 को जन्म। का& .. >>

सुषमा शर्मा, India 7/1/2016 12:00:00 AM 1001
काले बादल
काले बादल

सुमित्रानंदन पंत
बीसवीं सदी का पूर्वाद्र्ध छायावादी कवियों का उत्थान काल था। उसी समय अल्मोड़ा .. >>

सुषमा शर्मा, India 7/1/2016 12:00:00 AM 1001
बादल राग
बादल राग

सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला'
वसंत पंचमी, 1896, मेदिनीपुर, प¶िचम बंगाल में जन्म। मुख्य कृ .. >>

सुषमा शर्मा, India 7/1/2016 12:00:00 AM 1001

व्याख्या (7)

कस्मै देवाय हविषा विधेम?
कस्मै देवाय हविषा विधेम?

भारतीय मानस की अनवरत् जिज्ञासा की कथा की यह कड़ी आधुनिक भारत में वैज्ञानिक विकास लिखने के क्रम में .. >>

राजेश करमहे, India 7/1/2016 12:00:00 AM 1001
कस्मै देवाय हविषा विधेम?
कस्मै देवाय हविषा विधेम?

गर्भनाल पत्रिका, मई 2016 अंक में प्राचीन भारत में ज्ञान-विज्ञान की चर्चा करते हुए वैदिक युग की वै .. >>

राजेश करमहे, India 6/1/2016 12:00:00 AM 1001

शिकागो की डायरी (5)

गुम होती पहचान
गुम होती पहचान

शिष्टाचार, आदर, संस्कार भारतीय संस्कृति की सुंदर वि¶ोषताएँ कही जाती हैैं, लेकिन आधुनिक समय म .. >>

अपर्णा राय, USA 6/1/2016 12:00:00 AM 1001
अच्छा करने की धुन
अच्छा करने की धुन

शिकागो में अप्रवासी भारतीयों की संख्या बहुत है पर उसमें से कुछेक लोग ही हैं जो अपनी कम्युनिटी के .. >>

अपर्णा राय, USA 5/1/2016 12:00:00 AM 1001
शिकागो में होली
शिकागो में होली

हिरण्यकश्यप और प्रह्लाद की पारम्परिक कथा के साथ ही आजकल होली का त्यौहार एक नए रूप में प्रचलित हो .. >>

अपर्णा राय, USA 4/1/2016 12:00:00 AM 0

सम्पादकीय (5)

वर्षा-मंगल
वर्षा-मंगल

ऋग्वेद के पाँचवे मंडल के 83वें सूक्त की इस प्रथम ऋचा में उस वैदिक महा¶ाक्ति¶ााली, दानवी .. >>

राजेश करमहे, India 7/1/2016 12:00:00 AM 1001
चल हंसा वा देस
चल हंसा वा देस

अपना देश, खासकर मध्यकालीन भारत फ़क़ीरों का देश रहा है। अरबी का एक मूल है -फ़-क़-र, जिसका अर्थ है - नि .. >>

ADMIN, INDIA 6/1/2016 12:00:00 AM 1001
जल-जागृति
जल-जागृति

जल ही जीवन है। इस ¶ाा·ात सत्य से कौन इनकार करेगा? लेकिन इस सत्य के पक्ष में बोलना एक .. >>

सुषमा शर्मा, India 5/1/2016 12:00:00 AM 100

शायरी की बात (4)

ख़ुश्बू की तरह से मैं फिजा में बिखर गया
ख़ुश्बू की तरह से मैं फिजा में बिखर गया

रोज़ बढ़ती जा रही इन खाइयों का क्या करें
भीड़ में उगती हुई तन्हाइयों का क्या करें
हुक्मरान .. >>

नीरज गोस्वामी , 5/1/2016 12:00:00 AM 1001
अभी तो अपना मुझे घर तलाश करना है
अभी तो अपना मुझे घर तलाश करना है

शायर जनाब कुँवर "कुसुमेश' की लाजवाब ग़ज़लों की किताब "कुछ न हासिल हुआ' पढ़कर ऐसा महसूस होता है, जैसे .. >>

नीरज गोस्वामी , 3/1/2016 12:00:00 AM 0
अच्छे दिनों की आस में दीवारो-दर हैं चुप
अच्छे दिनों की आस में दीवारो-दर हैं चुप

ऐसे अशआर पढ़कर अचानक मुंह से कोई बोल नहीं फूटते। ऐसे कुंदन से अशआर यूँही कागज़ पर नहीं उतरते, इसके .. >>

नीरज गोस्वामी , 2/1/2016 12:00:00 AM 0

मन की बात (4)

हिंदी के सूत्र और संदर्भ
हिंदी के सूत्र और संदर्भ

हिंदी के संदर्भ में गाँधी जी ने 1918 में इंदौर में हुए हिंदी साहित्य सम्मेलन के दौरान कहा था कि ह .. >>

इला कुमार, India 5/1/2016 12:00:00 AM 1001
भारतीय लोक कलाएँ रुचिकर हैं
भारतीय लोक कलाएँ रुचिकर हैं

आप सभी हिंदी प्रेमियों से अपने मन की बात करूं इससे पहले अपना परिचय देना चाहती हूँ। हालांकि नहीं ज .. >>

मिलेना वेस्लोव्सकाया, Masco 5/1/2016 12:00:00 AM 1001
हिंदी-रूसी अनुवादक बनने का स्वप्न
हिंदी-रूसी अनुवादक बनने का स्वप्न

मेंरा नाम अन्या शप्रान है। मेरी उम्र बीस साल की है। मैं विद्यार्थी हूँ और वि?ाविद्यालय से हिंदी भ .. >>

अन्या शप्रान, 3/1/2016 12:00:00 AM 0

बातचीत (3)

बाबाओं के कुम्भ में एक जिज्ञासु
बाबाओं के कुम्भ में एक जिज्ञासु

सब कुछ अविस्मरणीय... अकल्पनीय... सपना सच होने जैसा। धर्मप्राण जनता-जनार्दन के अंत:करण में हिलोरे .. >>

राजू मिश्र, INDIA 4/1/2016 12:00:00 AM 100
निवेशक मित्र और विकास में सहभागी हैं
निवेशक  मित्र और विकास में सहभागी हैं

प्रश्न - मध्यप्रदेश में प्रवासी भारतीयों की पूंजी निवेश की आपकी महत्वाकांक्षी योजना में सिंगापुर .. >>

सुषमा शर्मा, India 2/1/2016 12:00:00 AM 0
मॉल-संस्कृति को देखने भारत नहीं आऊँगी
मॉल-संस्कृति को देखने  भारत नहीं आऊँगी

डॉ योको तावादा जयपुर साहित्य सम्मेलन में भाग  लेने ले लिए भारत आर्इं। वे उस सम्मलेन में भाग .. >>

डॉ. तोमोको किकुचि, 2/1/2016 12:00:00 AM 0
AUTHOR
Quick Enquiry
HOME http://www.garbhanal.com/Default.aspx R+M+C+M+C+R+M+C+R+M+M+C+M+M+M+M+M+C+R+M+C+M+C+M+C+
Copyright © 2008 - All Rights Reserved - Garbhanal | Yellow Loop | SysNano Infotech | Structured Data Test